एमपी की धरती ने उगला सोना, गेहूं की रिकार्ड खरीदी

भोपाल, 01 जूनः मध्यप्रदेश में इस साल किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूँ की रिकार्ड खरीदी हुई है। राज्य सरकार की बेहतर उपार्जन नीति और पर्याप्त व्यवस्थाओं के चलते अधिकाधिक पंजीकृत किसानों ने अपना गेहूँ बेचा है। गेहूँ खरीदी के अंतिम दिन 81 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी की गई। हालांकि अभी अंतिम आंकड़ा आना अभी शेष है।
गेहूँ उपार्जन केन्द्रों के जरिए जो गेहूँ क्रय किया गया है, उसमें से 68 लाख 10 हजार मीट्रिक टन गेहूँ का सुरक्षित भण्डारण भी कर लिया गया है। मध्यप्रदेश में पंजीकृत किसानों में से 9 लाख 63 हजार 124 से कुल 11 हजार 207 करोड़ रुपये मूल्य का गेहूँ खरीदा जा चुका है।

 

खाद्य, नागरिक आपूर्ति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री पारस जैन ने अपने गृह नगर उज्जैन से अनेक जिला कलेक्टरों से चर्चा कर गेहूँ की खरीदी की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन जिलों में बगैर बारदानों के पैकिंग कर ली गई थी, वहाँ प्राथमिकता के आधार पर बारदानों में गेहूँ की बैगिंग (भराव) सुनिश्चित कर लिया जाए। पूर्व मानसून के पहले भण्डारण आदि की सारी प्रक्रिया पूरी कर ली जाए।

 

मध्यप्रदेश में इस साल रबी विपणन मौसम में समर्थन मूल्य पर 15 मार्च से गेहूँ खरीदी का कार्य शुरू किया था। राज्य शासन ने समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन की अंतिम तिथि पूर्व में 20 मई निर्धारित की थी, जिसको बाद में संशोधन कर 31 मई किया गया था।

 

मध्यप्रदेश में पहली बार गेहूँ खरीदी के लिए ई-उपार्जन प्रक्रिया अपनाई गई। पंजीकृत किसानों को उनके मोबाइल फोन पर बाकायदा अपनी उपज के साथ उपार्जन केन्द्र पहुँचने का आमंत्रण एसएमएस के जरिए दिया गया। प्रदेश के किसी भी खरीदी केन्द्र पर पहुँचने वाले किसान को साथ में अपना मोबाइल फोन लाना जरूरी रखा गया, जो उसके पंजीकृत होने का सबूत भी था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here