ऐतिहासिक धरोहरों के संरक्षण के कार्य को प्राथमिकता

भोपाल। संस्कृति मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने कहा है कि मध्यप्रदेश में पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण ऐतिहासिक धरोहरों के संरक्षण के कार्य को प्राथमिकता से किया जायेगा। इसके लिये राज्य सरकार की ओर से पर्याप्त राशि उपलब्ध करवाई जायेगी। संस्कृति मंत्री गुरुवार को इंदौर में राजवाड़ा परिसर में होलकर वंश के व्यक्तित्व, कृतित्व तथा इतिहास पर केन्द्रित होलकर-वीथिका का लोकार्पण कर रहे थे। इस मौके पर सांसद श्रीमती सुमित्रा महाजन, महापौर इंदौर कृष्ण मुरारी मोघे तथा आयुक्त पुरातत्व पंकज राग भी मौजूद थे।

संस्कृति मंत्री ने कहा कि प्रदेश की अनेक ऐतिहासिक धरोहरें विश्व मानचित्र में महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। उन्होंने इस कार्य में निजी भागीदारी पर भी जोर दिया। संग्रहालय में होलकर वंश के शासकों के बहुरंगी चित्र, युद्ध-सामग्री, प्राचीन सिक्के, होलकर वंश के इष्ट देवताओं की मूर्तियाँ प्रमुख रूप से प्रदर्शित की गई हैं। इसके अलावा वीथिका में होलकर वंश के बर्तनों तथा होलकर राज्य के प्रशासनिक दस्तावेजों को भी प्रदर्शित किया गया है। प्रारंभ में पुरातत्व विभाग के श्री डी.पी. पाण्डे ने कला-वीथिका के बारे में जानकारी दी। वीथिका सोमवार साप्ताहिक अवकाश को छोड़कर बाकी दिन में दर्शकों के लिये प्रातः 10 से शाम 5 बजे तक खुली रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here