गडकरी ने बांधे तारीफ के पुल

सूरजकुंड (हरियाणा)। भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी भी अब शिवराज सरकार के कामकाज पर फिदा हैं। राष्ट्रीय परिषद की बैठक में सबसे ज्यादा तारीफ मध्य प्रदेश की सरकार व संगठन की हुई। गडकरी ने अपने भाषण में विकास के मुद्दों पर काम करने के लिए मध्य प्रदेश को गुजरात से भी आगे रखा। उन्होंने पांच बार शिवराज सिंह के नाम का उल्लेख कर कहा कि किस तरह उन्होंने प्रदेश को पिछड़े राज्य की श्रेणी से निकाल पर देश के अग्रणी राज्यों में ला खड़ा किया है। गडकरी ने संगठन की कमान संभाल रहे प्रभात झा के कामकाज की भी यह कहकर तारीफ की कि मध्‍यप्रदेश भाजपा के सदस्यता अभियान में पूरे देश में अव्‍वल रहा। यहां पार्टी ने सबसे ज्यादा 56 लाख सदस्य बनाए हैं। पूरे देश में भाजपा की सदस्य संख्या डेढ़ करोड़ तक पहुंच गई है।

भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय बैठक के पहले दिन मध्य प्रदेश छाया रहा। बैठक की शुरुआत में ही गडकरी ने अपने अध्यक्षीय भाषण में मध्य प्रदेश का विशेष उल्लेख करते हुए उसके द्वारा की गई प्रगति का जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि एक समय था जब मध्य प्रदेश की विकास दर मात्र 2.4 फीसद थी। उस समय उन्होंने शिवराज सिंह को बुलाकर कहा था कि इस प्रदर्शन के लिए उनको सौ में से 15 नंबर भी नहीं दिए जा सकते हैं। अब मध्य प्रदेश की कृषि विकास दर 18 फीसद है। राज्य में सिंचित खेती सात लाख हेक्टेयर से बढ़कर 22 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गई है। गडकरी ने कहा कि मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ की सरकारों ने अंत्योदय के रास्ते पर चलकर किसानों के कल्याण की जो योजनाएं बनाई वे अन्य राज्यों के लिए भी अनुकरणीय है। किसानों को मिली सुविधाओं का ही परिणाम था कि मध्य प्रदेश में गेहूं का भारी उत्पादन हुआ, लेकिन केंद्र की सरकार ने इस गेहूं के भंडारण के लिए पर्याप्त बोरियां तक नहीं दी। इसके लिए मुख्यमंत्री को बार बार दिल्ली के चक्कर काटने पड़े। कांग्रेस खुद तो विकास करती नहीं है, दूसरों की राह में भी रोड़े अटकाती रहती है।

बाद में संगठनात्मक चर्चा में भी मध्य प्रदेश के संगठन की सबसे ज्यादा तारीफ हुई। भाजपा के सदस्यता अभियान के प्रभारी राधामोहन सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में सदस्यता में 176 फीसद की बढ़ोतरी के साथ 56 लाख सदस्य बनाए हैं, जो एक रिकार्ड है। एक समय था जब पूरे देश में पार्टी के 50 लाख सदस्य भी नहीं थे। मध्य प्रदेश में सक्रिय सदस्यों की संख्या भी सवा लाख तक पहुंच गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here