पंचायत दर्पण वेब पोर्टल को मिला स्कॉच अवार्ड

भोपाल, सितम्बर 2014/ सूचना प्रौद्योगिकी के प्रभावी उपयोग से त्रि-स्तरीय पंचायतों की लेखा-जोखा प्रणाली को बेहतर बनाने के मकसद से पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मध्यप्रदेश द्वारा तैयार किये गये पंचायत दर्पण साफ्टवेयर और वेब पोर्टल को प्रतिष्ठित स्कॉच डिजिटल इन्क्लूजन अवार्डस प्रदान किया गया है। त्रि-स्तरीय पंचायत राज संस्थाओं में बेहतर वित्तीय प्रबंधन और लेखा प्रणाली की पारदर्शिता के लिये मध्यप्रदेश को यह प्रतिष्ठित सम्मान दिया गया है।

प्रदेश की महिला-बाल विकास मंत्री माया सिंह ने आयुक्त पंचायत राज संचालनालय मध्यप्रदेश रघुवीर श्रीवास्तव और विभागीय टीम के सदस्यों को नई दिल्ली में स्कॉच अवार्ड प्रदान किया। इस अनूठे सफल प्रयास के लिये शनिवार को स्कॉच आर्डर ऑफ मेरिट से भी मध्यप्रदेश को नवाज़ा गया।

मध्यप्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायतों की लेखा-जोखा प्रणाली को आसान बनाने के मकसद से www.mppanchayatderpan.org वेब पोर्टल पर पंचायत दर्पण सॉफ्टवेयर उपलब्ध करवाया गया है। इस अनूठे सॉफ्टवेयर की मदद से चार्टर्ड एकाउन्टेंट फर्मों को त्रि-स्तरीय पंचायतों की लेखा प्रणाली को सुचारू और पारदर्शी तरीकों से सुव्यवस्थित बनाने में मदद मिल रही है। इसके साथ ही वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों और निर्वाचित प्रतिनिधियों को त्रि-स्तरीय पंचायतों में संचालित विभागीय गतिविधियों और योजनाओं की प्रगति को जानने और निर्माण कार्यों की निगरानी रखने में आसानी हुई है। इस वेब पोर्टल के माध्यम से सीएजी के द्वारा ऑडिट के संदर्भ में निर्धारित आठ डाटा प्रपत्र की जानकारी तथा त्रि-स्तरीय पंचायतों के आय-व्यय का अन्य विवरण निर्धारित लेखा शीर्ष अनुसार उपलब्ध हो जाता है।

यह सॉफ्टवेयर 13वें वित्त आयोग, राज्य वित्त आयोग, स्टाम्प डयूटी, करों के अधिरोपण और वसूली, मनरेगा, विभिन्न आवास योजनाओं, स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विभाग की योजनाओं, स्वास्थ्य योजना और पेंशन वितरण व्यवस्था के लिये पंचायतों को आवंटित बजट के विवरण को संधारित करने सक्षम है। सॉफ्टवेयर की यह खूबी है कि हर ग्राम पंचायत में हुए निर्माण कार्यों के खर्च और उनसे संबंधित हर हिसाब-किताब को कोई भी व्यक्ति संबंधित पंचायत की वेबसाइट पर देख सकता है। आम लोगों तक सूचना के अधिकार की सुलभता में यह एक अभिनव पहल है। पंचायत द्वारा केवल दो प्रविष्टि रोकड़ बही रजिस्टर में दर्ज करने से वित्तीय रख-रखाव के लिये महालेखा परीक्षक की सांविधिक रिपोर्ट और योजनावार सभी वैधानिक ब्यौरे इस सॉफ्टवेयर द्वारा स्वतः ही तैयार हो जाते हैं।

पंचायत दर्पण में पंचायत स्तर के लेखाओं और लेन-देन की सभी जानकारियाँ रहती हैं। ग्राम पंचायतों को वितरित राशि और त्रि-स्तरीय पंचायतों द्वारा संपन्न कार्यों को वेबसाइट के माध्यम से पब्लिक डोमेन में प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा सभी 23006 ग्राम पंचायत में संचालित विभिन्न योजनाओं की तकनीकी और प्रशासकीय स्वीकृति संबंधी जानकारी तथा आय-व्यय का विवरण भी एक क्लिक पर प्राप्त हो जाता है। पंचायत दर्पण वेब पोर्टल पर ग्रामीण अंचलों में हुए 1 लाख 54 हजार निर्माण कार्यों का ब्यौरा भी दर्ज किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here