परिवहन विभाग में नई पंजीयन सीरीज

भोपाल, फरवरी 2015/ प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र के निवासियों को सुगम परिवहन सेवा उपलब्ध करवाने के लिये राज्य सरकार ने ग्रामीण परिवहन सेवा प्रारंभ की है। परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह के निर्देश पर ग्रामीण परिवहन सेवा के अंतर्गत संचालित वाहनों के नवीन पंजीयन के लिये परिवहन विभाग ने नई पंजीयन सीरीज जी.पी. (ग्रामीण परिवहन) प्रारंभ की है।

इस संबंध में सभी परिवहन अधिकारियों को ग्रामीण परिवहन सेवा में पंजीकृत होने वाले नवीन वाहनों को नई सीरीज में निर्धारित मापदण्ड अनुसार पंजीकृत करने को कहा गया है।

ग्रामीण परिवहन सेवा के वाहन की बाडी के मध्य एक फीट चौड़ी केसरिया रंग की पट्टी होगी। बॉडी की दोनों तरफ हरे रंग से ‘मुख्यमंत्री ग्रामीण परिवहन सेवा” लिखा जायेगा। इस योजना में संचालित होने वाले वाहनों की बैठक क्षमता 7+1 से अधिक नहीं होगी। पंजीयन के लिये आने वाले नये वाहन जी.पी.एस. डिवाइस सिस्टम से सुसज्जित होंगे। सिस्टम को हमेशा चालू हालत में रखने की जिम्मेदारी वाहन स्वामी/हितग्राही की रहेगी। परिवहन विभाग ने ग्रामीण परिवहन सेवा में पहले से संचालित वाहनों को आवंटित पंजीयन चिन्ह में कोई बदलाव नहीं किया है।

वाहन स्वामियों को ग्रामीण मार्ग पर वाहन संचालन के लिये प्रोत्साहित करने परिवहन विभाग द्वारा पंजीकृत होने वाले नये वाहनों से एक अक्टूबर, 2014 से वाहन की कीमत का एक प्रतिशत जीवन-काल कर निर्धारित किया गया है। जो वाहन स्वामी पहले से संचालित वाहनों का जीवन-काल कर जमा कर चुके हैं तथा ग्रामीण परिवहन सेवा में वाहन का संचालन करना चाहते हैं, उनसे कोई अतिरिक्त अन्य कर जमा नहीं करवाया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here