पुरस्कार से अलंकृत होंगे 26 रचनाकार

भोपाल, फरवरी 2015/ राज्य की साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद का अलंकरण समारोह 9-10 फरवरी, 2015 को राज्य पुरातत्व संग्रहालय में होगा। पहले दिन 9 फरवरी को 10 अखिल भारतीय एवं 16 प्रादेशिक पुरस्कार से रचनाकारों को अलंकृत किया जायेगा। संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री सुरेन्द्र पटवा मुख्य अतिथि होंगे। समारोह की अध्यक्षता कालिदास संस्कृति अकादमी उज्जैन के पूर्व निदेशक आचार्य कृष्ण कान्त चतुर्वेदी करेंगे। सारस्वत अतिथि समाज-सेवी एवं शिक्षाविद श्रीधर पराड़कर होंगे।

अलंकृत होने वाले प्रत्येक रचनाकार को अखिल भारतीय पुरस्कार के रूप में 51 हजार एवं प्रादेशिक पुरस्कार के लिये 31 हजार राशि के साथ-साथ स्मृति-चिन्ह, शॉल-श्रीफल एवं प्रमाण-पत्र दिया जायेगा। वर्ष 2011 एवं 2012 के अखिल भारतीय पुरस्कार से नवाजे जाने वाले रचनाकार में डॉ. प्रभा दीक्षित, डॉ. रामेश्वर पाण्डेय (पं. माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार-निबंध), डॉ. बीना बुदकी, श्री बाबूलाल त्रिपाठी (गजानन माधव मुक्तिबोध-कहानी), श्री अशोक जमनानी, श्रीमती स्नेह ठाकुर (राजा वीरसिंह देव पुरस्कार-उपन्यास), डॉ. प्रमोद शर्मा, श्री कृष्ण मुरारी मिश्र, (राजा रामचन्द्र शुक्ल पुरस्कार-आलोचना), डॉ. सुरेशचन्द्र शुक्ल, श्री चन्द्रसेन विराट (पं. भवानी प्रसाद मिश्र पुरस्कार-कविता) को अलंकृत किया जायेगा।

वर्ष 2011 एवं 2012 के प्रादेशिक पुरस्कार से अलंकृत होने वाले रचनाकार में डॉ. देवेन्द्र दीपक, सुश्री शरद सिंह (पं. बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन” पुरस्कार-उपन्यास), श्री मधुर कुलश्रेष्ठ, प्रो. पदमा शर्मा (सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार-कहानी), डॉ. प्रेम भारती, डॉ. अनामिका तिवारी (श्री कृष्ण सरल पुरस्कार-कविता), डॉ. आरती दुबे, प्रो. बी.एल. आच्छा (आचार्य नन्द दुलारे बाजपेयी पुरस्कार-आलोचना), डॉ. कान्ति कुमार जैन, श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव (हरिकृष्ण प्रेमी पुरस्कार-नाटक/एकांकी), श्री वसन्त सकरगाए, डॉ. लक्ष्मी नारायण ‘शोभन” (राजेन्द्र अनुरागी पुरस्कार-व्यंग्य, ललित निबंध, डायरी, संस्मरण आदि), श्री अनूप अशेष, श्री मनोहर ‘मनु” (दुष्यंत कुमार पुरस्कार-प्रदेश के लेखक की पहली कृति) एवं सुश्री अल्पना शर्मा और डॉ. जगदीश प्रसाद रावत (ईसुरी पुरस्कार-लोकभाषा विषयक) के नाम शामिल हैं।

अलंकृत होने वाले सभी रचनाकार दूसरे दिन 10 फरवरी, 2015 को सुबह 11 बजे ‘साहित्य की चुनौतियाँ और हमारा दायित्व” विषय पर अपना वक्तव्य देंगे। मुख्य अतिथि शिक्षाविद श्री श्रीधर पराड़कर, सारस्वत अतिथि प्रो. मीरा गौतम होंगी। अध्यक्षता डॉ. गिरिराज शरण अग्रवाल करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here