प्रदेश से राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय विमान सेवाएँ प्रारंभ हो

भोपाल, सितम्बर  2014/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के इन्दौर और भोपाल एयरपोर्ट को अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट घोषित करने तथा यहाँ से अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें शुरू करवाने का आग्रह किया है। श्री चौहान के साथ केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू की मध्यप्रदेश में विमान सेवाओं के विस्तार के बारे में यहाँ महत्वपूर्ण बैठक हुई। श्री राजू ने कहा कि मध्यप्रदेश में विमानन विस्तार की काफी संभावनाएँ हैं। मध्यप्रदेश पहला प्रदेश है जिसने विभिन्न एयरलाइन्स के प्रतिनिधियों को बुलाकर चर्चा करने की पहल की है। बैठक में मौजूद विभिन्न राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइन्स के प्रबंधन से भोपाल, इन्दौर, जबलपुर, ग्वालियर, खजुराहो आदि प्रमुख शहरों से देश-विदेश में उड़ानें प्रारंभ करने के बारे में व्यापक विचार-विमर्श किया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के लिये फ्लाईट कनेक्टिविटी महत्वपूर्ण है। प्रदेश के बड़े शहरों भोपाल, इन्दौर, जबलपुर, ग्वालियर से देश के बड़े शहरों तक एयर लाइन की संख्या बढ़ाने की जरूरत है। प्रसिद्ध बौद्ध स्थल साँची में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए भोपाल और कोलम्बो के बीच अंतर्राष्ट्रीय उड़ान शुरू की जा सकती है। यह वायु सेवा प्रारंभ करने के लिये श्रीलंका के राष्ट्रपति सहमत हैं। इसी तरह एयर अरेबिया इन्दौर से शारजाह फ्लाइट प्रारंभ करने के लिये तैयार है।

श्री राजू ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की इस पहल का पूरा लाभ नागरिक उड्डयन विभाग लेगा। उद्योग मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि प्रदेश में ऐविएशन की व्यापक संभावनाएँ हैं। बैठक में तय हुआ कि एयर इण्डिया द्वारा भोपाल से दिल्ली की प्रात:कालीन सेवा पहले की तरह पुन: प्रारंभ की जायेगी। इण्डिगो भी भोपाल से व्यावसायिक सेवा प्रारंभ करने का शीघ्र निर्णय लेगी।

इंदौर को अहमदाबाद, जयपुर, चैन्नई, खजुराहो, लखनऊ से जोड़ने, भोपाल को हैदराबाद, बेंगलुरू, पुणे, जयपुर तथा ग्वालियर को मुम्बई, इंदौर, खजुराहो से जोड़ने का केन्द्रीय मंत्री से आग्रह किया गया। उन्हें यह भी बताया गया कि एयर एमेरेट्स द्वारा इंदौर से कार्गो सेवा प्रारंभ करने की सहमति दी गई है। इसके लिये केन्द्र सरकार की सहमति अपेक्षित है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि उड्डयन मंत्रालय की इसमें सहमति है। विदेश मंत्रालय की स्वीकृति लेने की भी आवश्यकता होगी। प्रदेश के पर्यटन-स्थलों, राष्ट्रीय उद्यानों तथा अभयारण्यों में पर्यटकों की सहूलियत के लिये विभिन्न स्थानों से पवनहंस के हेलीकॉप्टर प्रारंभ करने की सहमति भी बैठक में व्यक्त की गयी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here