बाग-बगीचे आय बढ़ाने का बेहतर साधन

भोपाल, अगस्त 2015/ उद्यानिकी, खाद्य और प्र-संस्करण मंत्री कुसुम महदेले ने कहा है कि बाग-बगीचे किसानों और नागरिकों की आय बढ़ाने तथा जीविकोपार्जन का बेहतर साधन हो सकते हैं। जरूरत इस बात की है कि लोगों को फल और फूलों की खेती के लिये प्रेरित किया जाये। सुश्री महदेले गुलाब उद्यान में स्वर्ण क्रांति अभियान में उद्यानिकी एवं पुष्प महोत्सव का शुभारंभ कर रही थी।

कुसुम महदेले ने कहा कि अभियान के पहले चरण में सभी 51 जिले में उद्यानिकी एवं पुष्प महोत्सव किया जा रहा है। महोत्सव में आगामी फरवरी तक 15 लाख फलदार एवं एक करोड़ फूल के पौधे रोपे जायेंगे। इससे 20 लाख किसान को लाभ मिलेगा। साथ ही 20 लाख नेनो ऑचर्ड-सह-बाड़ी विकास कार्यक्रम भी शुरू किया जा रहा है। इसमें किसान अपनी बाड़ी में फल एवं सब्जी के पौधे लगाकर पौष्टिक आहार की पूर्ति कर अपनी आय बढ़ा सकेंगे। अभियान में 15 लाख हेक्टेयर में 20 लाख किसान को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है। प्रदेश को लगातार मिले कृषि कर्मण पुरस्कार के लिये उद्यानिकी विभाग का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होंने नगर निगम को सुझाव दिया कि वृक्षों की तादाद बढ़ाने के लिये प्राचीन काल से चली आ रही ‘वृक्षों के विवाह’ जैसी परम्परा को पुन: शुरू किया जाये।

कहा कि प्रदेश के सभी क्षेत्र में उद्यानिकी गतिविधियाँ संचालित होना चाहिये। जहाँ जिस फल की ज्यादा पैदावार हो, वहाँ उसकी सामग्री से बनने वाले उत्पादों के केन्द्र भी स्थापित हो। आँगनवाड़ियों में बच्चों को फल खिलाकर कुपोषण को दूर किया जा सकता है। इसके लिये बड़ी योजना बनानी चाहिये। फलों के सुरक्षित भण्डारण के लिये प्रदेश में कोल्ड चेन स्थापित किये जायेंगे। उन्होंने गुलाब उद्यान में महिलाओं के लिये नगर निगम द्वारा बनाये जाने वाले ‘शी-लाउंज’ की सराहना की तथा उसे सुसज्जित एवं सुविधाजनक बनाने के लिये महापौर को सुझाव दिये। एयर पोर्ट से शाहपुरा तक प्रमुख मार्ग में चार ‘शी-लाउंज’ बनना चाहिये। नागरिक अपने घर में फल का कम से कम एक पौधा लगाने का संकल्प जरूर लें।

महापौर आलोक शर्मा ने कहा कि भोपाल की पहचान स्मार्ट सिटी के साथ ही फूलों के शहर की भी बनेगी। शहर के प्रमुख मार्गों में फुलवारी बनवायी जायेगी। शहर को फूलों से सुसज्जित करवाने में नागरिकों का सहयोग लिया जायेगा। नागरिक अपनी बगिया में फूल खिला सके इसके लिये ‘गार्डन एट कॉल’ योजना शुरू की गई है। योजना में एसएमएस की सुविधा भी शीघ्र शुरू होगी। नगर निगम के अध्यक्ष सुरजीत सिंह ने कहा कि स्मार्ट सिटी के लिये उद्यानिकी विभाग का सहयोग लिया जायेगा।

प्रमुख सचिव उद्यानिकी प्रवीर कृष्ण ने कहा कि स्वर्ण क्रांति अभियान से 20 लाख किसान को उद्यानिकी से जोड़ा जा रहा है। फल-फूल की खेती से 2 से 20 लाख तक आय हो सकती है। खाद्य प्र-संस्करण कार्य से गाँव, छोटे कस्बे और शहरों को जोड़ा जायेगा। गुलाब उद्यान में गार्डन एट कॉल एवं फल-सब्जी परिक्षण, प्र-संस्करण और प्रशिक्षण केन्द्र की सुविधा शुरू की जा रही है। अब शहर का कोई भी व्यक्ति 2553655 या 9425378167 पर टेलीफोन कर गार्डन एट कॉल की सुविधा का लाभ घर पर पौधे, लॉन लगवाने के साथ बगीचे के रख-रखाव के लिये कर सकेगा। प्रशिक्षण केन्द्र में फल, सब्जियों का परीक्षण करवाने के लिये सामग्री साथ लाना होगी। प्रत्येक माह 2 सात दिवसीय प्रशिक्षण होंगे। उन्होंने बताया कि उद्यानिकी महोत्सव 10 अगस्त से 15 सितम्बर तक तथा पुष्प महोत्सव फरवरी 2016 तक चलेगा।

प्रारंभ में सुश्री कुसुम महदेले ने शी-लाउंज का भूमि-पूजन किया तथा गार्डन एट कॉल को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने फूल के पौधे रोप कर पुष्पोत्सव तथा फल एवं सब्जी परीक्षण, प्र-संस्करण एवं प्रशिक्षण केन्द्र का शुभारंभ किया। उद्यानिकी मंत्री और महापौर ने गुलाब उद्यान की नर्सरी, सावन के झूले आदि का अवलोकन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here