बेटियों की गरिमा के लिये संघर्ष का संकल्प लें

भोपाल, सितम्बर 2014/ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने लोगों का आव्हान किया है कि वे बेटियों के गरिमापूर्ण जीवन के लिये संघर्ष करें और बेटियों के विरुद्ध अपराध करने वाली मानसिकता को जड़ से उखाड़ फेंके। बेटियों के सहारे समाज बदल सकता है। श्री चौहान यहाँ मध्यप्रदेश आय.ए.एस. आफिसर्स एसोसिएशन और मध्यप्रदेश माध्यम द्वारा आयोजित फिल्मोत्सव 2014 का शुभारंभ कर रहे थे। इस फिल्मोत्सव में ऑस्कर पुरस्कारों से संबंधित और नामांकित फिल्में दिखाई जायेंगी।

मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में मर्दानी फिल्म को करमुक्त घोषित करने के निर्णय की जानकारी देते हुए बताया कि यह फिल्म अपने आप में एक मिशन है। समारोह में विशेष रूप से उपस्थित फिल्म की अभिनेत्री रानी मुखर्जी से उन्होंने आग्रह किया कि वे फिल्म में उठाये गये मुद्दे को मिशन के रूप में आगे बढ़ायें। ‘मर्दानी’ फिल्म के निर्माता निर्देशक और कलाकारों ने अपना कर्त्तव्य पूरा किया है। अब समाज के काबिल सदस्यों की बारी है। बेटियों के विरूद्ध अपराध करने और सहने की मानसिकता बदलने के लिये समाज और सरकार दोनों को मिलकर काम करने की जरूरत है। बेटियों का शोषण करने वालों को कड़ा दण्ड देने और उनके चहरे काले करने की जरूरत है।

सिने तारिका रानी मुखर्जी ने कहा कि ‘मर्दानी’ बाल शोषण के सामाजिक मुद्दे पर आधारित फिल्म है। फिल्म के माध्यम से समाज में जागृति का प्रयास किया गया है। इस मुहिम के साथ वे जीवन भर जुड़ी रहेंगी। मध्यप्रदेश के लोग भाग्यशाली हैं जिन्हें मुख्यमंत्री के रूप में श्री चौहान जैसा मुखिया मिला है जो महिलाओं और बेटियों को अत्यंत ऊँचे दर्जे पर देखते हैं। मध्यप्रदेश में मिले स्नेह और सम्मान से वे अभिभूत हैं और मध्यप्रदेश की बेटी हो गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here