मंत्रालय के कार्य में सुधार के लिए बने नीति

भोपाल, सितम्बर 2015/ अटलबिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान मंत्रालय के कार्यों में सुधार के लिए सुनियोजित नीति बनाये। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात संस्थान की शासी निकाय की बैठक में कही। बैठक में आदिमजाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह भी उपस्थित थे।

श्री गुप्ता ने कहा कि न्यायालय में जिन प्रकरणों में शासन के विरुद्ध फैसला होता है, उनका भी थर्ड पार्टी इवेल्युएशन करवाया जाये। बड़े विभागों में लीगल सेल बनाने पर विचार किया जाये। संस्थान द्वारा जिन योजनाओं का थर्ड पार्टी इवेल्युएशन करवाया गया है, उनकी रिपोर्ट पर संबंधित विभाग के साथ चर्चा कर प्रभावी कदम उठाये जायें।

संस्थान अन्य देश और राज्य में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के लिए किये जा रहे कार्यों का तुलनात्मक अध्ययन कर रिपोर्ट बनाये और इसे लागू करवाने का तरीका भी सुझाये। जिलों में कलेक्टर-एस.पी. द्वारा किये जाने वाले नवाचार एवं अच्छे कार्यों को संस्थागत किया जाये। इससे अधिकारी बदलने के बाद भी वह कार्य जारी रहेंगे।

मुख्य सचिव श्री अंटोनी डिसा ने कहा कि विश्वविद्यालयों में पी.एच-डी. करने वाले विद्यार्थियों को संस्थान में रिसर्च करने का अवसर दिया जाय।

संस्थान के महानिदेशक पदमवीर सिंह ने संस्थान द्वारा किये जा रहे कार्यों की जानकारी दी। बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त अजयनाथ, महानिदेशक प्रशासन अकादमी श्रीमती कंचन जैन, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा के.के.सिंह, सचिव हरिरंजन राव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here