विकास और निर्माण कार्यों का प्रदेश में नया इतिहास

भोपाल, अप्रैल 2013/ मध्यप्रदेश के गाँव-गाँव और नगर-नगर में आज विकास तथा निर्माण कार्यों के शिलान्यास और लोकार्पण का नया इतिहास लिखा गया। अब तक प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के सभी संभाग में 1023 करोड़ 40 लाख एक हजार रुपये के निर्माण और विकास कार्यों के शिलान्यास और लोकार्पण किये गये। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन ने 6 अप्रैल को ‘‘विकास दिवस’’ के रूप में मनाने के निर्देश दिये थे। इस दिन प्रत्येक जिले में एक या एक से अधिक निर्माण/विकास कार्यों के भूमि-पूजन और शिलान्यास करवाये जाने को निर्धारित किया गया था। साथ ही लोकार्पण और भूमि-पूजन कार्यक्रमों में जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति आवश्यक की गई थी।

प्रदेश के विभिन्न जिलों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मंत्रि-परिषद के सदस्यों और जन-प्रतिनिधियों ने इन कार्यक्रमों में शिरकत की। जिलों से अब भी जानकारी प्राप्त हो रही है। सर्वाधिक 633 करोड़ 9 लाख से अधिक की राशि के लोकार्पण और भूमि-पूजन कार्य भोपाल संभाग में होने की जानकारी है।

अब तक प्राप्त जानकारी के अनुसार उज्जैन संभाग में लगभग 82 करोड़ 50 लाख से अधिक के विकास कार्यों के भूमि-पूजन और शिलान्यास हुए। होशंगाबाद संभाग में 86 निर्माण और विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन हुआ, जिनकी लागत लगभग 40 करोड़ 37 लाख रुपये थी। इंदौर संभाग के 5 जिलों में 63 करोड़ 79 लाख रुपये के 114 कार्य का भूमि-पूजन और लोकार्पण हुआ। सागर संभाग में 52 करोड़ 71 लाख 49 हजार रुपये के कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण हुआ। यहाँ नागरिकों को लगभग 309 कार्यों की सौगात मिली।

इसी तरह ग्वालियर-चंबल संभाग में 67 करोड़ 4 लाख रुपये के 740 विकास और निर्माण कार्यों के लोकार्पण तथा शिलान्यास की जानकारी है। जबलपुर संभाग में 63 करोड़ 90 लाख रुपये के विकास और निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण कार्य हुआ। रीवा और शहडोल संभाग के जिलों में 19 करोड़ 99 लाख के विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया। यहाँ तेन्दूपत्ता मजदूरों को इस अवसर पर 64 लाख 59 हजार रुपये का बोनस वितरण भी किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here