व्यावसायिक संस्थानों में आरक्षित वर्ग के युवाओं को मिलेगा स्व-रोजगार प्रशिक्षण

भोपाल। मध्यप्रदेश रोजगार एवं प्रशिक्षण परिषद (मेपसेट) द्वारा इस वर्ष प्रतिष्ठित व्यावसायिक संस्थानों के माध्यम से अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के दो हजार युवाओं को व्यावसायिक स्व-रोजगार प्रशिक्षण दिलाये जाने का कार्यक्रम तय किया गया है। प्रशिक्षण के दौरान चयनित युवाओं के लिये मुम्बई, भोपाल, इंदौर, देवास एवं औरंगाबाद में निःशुल्क आवास की भी व्यवस्था होगी। प्रशिक्षणों के लिये आवेदन 5 अगस्त तक दिये जा सकेंगे।

इंदौर में गारमेंट्स मैन्युफेक्चरिंग उद्योग में एक हजार युवाओं को प्रशिक्षण दिलाया जायेगा। इसके अलावा मुम्बई एवं भोपाल में कम्प्यूटर रिपेयरिंग, नेटवर्किंग, एडवांस एनिमेशन एवं फिल्म मेकिंग संबंधित प्रशिक्षण दिलाये जाने की व्यवस्था की गई है। कम्प्यूटर से जुड़े विषयों पर अनुसूचित-जाति वर्ग के 174 एवं जनजातीय वर्ग के 116 युवाओं को प्रशिक्षण दिलाया जायेगा। पर्यटन के क्षेत्र में 210 युवाओं को प्रशिक्षण दिलाये जाने की व्यवस्था की गई है। सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग (सीपेट), भोपाल में 100 युवाओं को प्रशिक्षण दिलाये जाने की व्यवस्था की गई है। देवास की टाटा लेदर शू, गारमेंट्स मेकिंग के क्षेत्र में 200 युवाओं को प्रशिक्षण दिलाया जायेगा। ऑटो मोबाइल उद्योग के क्षेत्र में युवाओं को रोजगार दिलाये जाने के मकसद से इंदौर एवं औरंगाबाद में इण्डो जर्मन टूल-रूम में 200 युवाओं के तकनीकी प्रशिक्षण दिलाये जाने की व्यवस्था की गई है। यह सभी प्रशिक्षण निःशुल्क रखे गये हैं और चयनित युवाओं को प्रशिक्षण अवधि के दौरान निःशुल्क आवासीय एवं छात्रावास की भी सुविधा उपलब्ध करवाई जायेगी। इन प्रशिक्षण के संबंध में अन्य जानकारी भोपाल के श्यामला हिल्स, राजीव गाँधी भवन स्थित मेपसेट के कार्यालय से अथवा फोन नम्बर 0755-2661215 से भी प्राप्त की जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here