ताजा हालात पर एक सुंदर कविता

बेटे से बतरस 
****************
उठा-पटक ”जारी” है बेटा
कुर्सी पर ”भारी” है बेटा
*
नहीं टिकी सरकार ढाई दिन
बीजेपी ”हारी” है बेटा
*
कांग्रेस खुश है थोड़ी सी
अब उसकी ”बारी” है बेटा
*
कर्नाटक क्या,सकल देश को
”सत्ता” ही ”प्यारी” है बेटा
*
”मंदी’ ‘ है घोड़ा बजार में
पीड़ित ”व्यापारी” है बेटा
*
लोकतंत्र है ज़िंदा फिर भी
सबका ”आभारी” है बेटा
*
नैतिकता के नए तकाजे
गढ़ना ”लाचारी” है बेटा
*
नए जमाने में ”नेताजी”
मान नहीं ”गारी” है बेटा
**
(@ राकेश अचल की फेसबुक वॉल से साभार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here