राजनीतिक कविता- बहुत सरल मंत्री बनना

बहुत सरल मंत्री बनना
*************
अपनी केवल अर्जी है
बाक़ी उसकी मर्जी है
*
चरण चूमना आदत है
कह लीजे खुदगर्जी है
*
कुर्सी एक भरोसे की
दुनिया में सब फर्जी है
*
वो उधेड़ता है बखिया
खानदान से दर्जी है
*
बादल हो तो बात अलग
बदली कब-कब गर्जी है
*
दरबारों में जाना मत
जन से वहां एलर्जी है
*
बहुत सरल मंत्री बनना
कहना-सर जी,सर जी है
*
तोपें हों या तलवारें
ये जुबान कब लर्जी है
*
छू मत लेना गलती से
मुझमें बहुत इनर्जी है
*
@ राकेश अचल की फेसबुक वॉल से साभार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here