प्रो. कुठियाला को डी.लिट की मानद उपाधि

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक के 16वें दीक्षांत समारोह में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बृज किशोर कुठियाला को डी. लिट की मानद उपाधि से विभूषित किया गया। हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने समारोह में प्रो. कुठियाला को इस उपाधि से अलंकृत किया।

समारोह में प्रो. कुठियाला ने कहा कि इस उपाधि से दायित्व और बढ़ गया है। उच्चतर शिक्षा के जरिए समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि प्रो. कुठियाला संचार के क्षेत्र में शोध को प्रोत्साहित करने और शोध में नवाचार के लिए जाने जाते हैं। उन्हें देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में कम्युनिकेशन, मीडिया, एडवरटाइजिंग, मार्केटिंग कम्युनिकेशन, इंजीनियरिंग एवं टेक्नालाजी से जुड़े हुए अनेक शैक्षणिक पाठ्यक्रम प्रारम्भ करने और स्थापित का श्रेय जाता है।

प्रो. कुठियाला विगत चार दशकों से भी अधिक समय से संचार, जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी, शिक्षा एवं शोध के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, हरियाणा तथा गुरु जम्भेश्वर विश्वविद्यालय, हिसार में संचार, जनसंचार, मीडिया टेक्नालाजी तथा प्रिंटिंग टेक्नालाजी से संबंधित विभिन्न पाठ्यक्रम प्रारम्भ किए।

भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय में विगत चार वर्षों में उन्होंने मीडिया मैनेजमेंट, एंटरटेंनमेंट कम्युनिकेशन, मार्केटिंग कम्युनिकेशन तथा कारपोरेट कम्युनिकेशन व एमबीए पाठ्यक्रम की शुरुआत की। उनके मार्गदर्शन में कम्युनिकेशन रिसर्च तथा न्यू मीडिया टेक्नालाजी विभाग की स्थापना करते हुए विश्‍वविद्यालय ने मीडिया रिसर्च, मल्टीमीडिया, ग्राफिक्स तथा एनीमेशन जैसे नवीन पाठ्यक्रम भी प्रारम्भ किए।

इससे पूर्व शिक्षा में उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रो. कुठियाला को अनेक प्रतिष्ठित सम्मानों से विभूषित किया जा चुका है। स्टार ऑफ द इंडस्ट्रीज समूह ने उन्हें नेशनल एजुकेशन लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया है। वहीं, पब्लिक रिलेशन्स काउंसिल ऑफ इंडिया भी प्रो. कुठियाला को पीआरसीआई चाणक्य सम्मान से सम्मानित कर चुकी है। हाल में प्रो. कुठियाला की अध्यक्षता में गठित विश्वविद्यालय समीक्षा समिति ने उच्च शिक्षा परिषद और उच्च शिक्षा आयोग का गठन किए जाने की सिफारिश की है। इस समिति का गठन हरियाणा सरकार ने उच्च शिक्षा में सुधार के लिए किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here