कागज की नावों की जय जय- एक विशेष कविता

राकेश अचल
*****************
बीते चार साल की जय-जय
देखे हर कमाल की जय-जय
*
सबकी देखभाल की जय-जय
बढ़ती कमल-नाल की जय-जय
*
बेमिसाल कदमों की जय-जय
सभी छलों-छद्मों की जय-जय
*
हारों-की,जीतों की जय-जय
शेरों की ,चीतों की जय-जय
*
गायब हुए नोट की जय-जय
लहराते लंगोट की जय-जय
*
मंहगाई-अभाव की जय-जय
नफरत-भेदभाव की,जय-जय
*
लाठी की,गोली की जय-जय
केसरिया टोली की जय-जय
*
सच-झूठे वादों की जय-जय
कागज की नावों की जय-जय
*
चीनी-जापानी की जय-जय
नीता अम्बानी की जय-जय
*
अब की जय-जय,तब की जय-जय
लूली है संसद की जय-जय
*
जाकिट की,शाहों की जय-जय
कोरी अफवाहों की जय-जय
*
कुर्तों-पायजामों की जय-जय
रोजाना ड्रामों की जय-जय
*
घायल है सरहद की जय-जय
घायल है सरहद की जय-जय
*
भ्रामक जनादेश की जय-जय
होते हर कलेश की जय-जय
*
भाषण की,भूषण की जय-जय
त्रिजटा-खरदूषण की जय-जाय
*
राम राज की जय-जय,जय-जय
चायबाज की जय-जय, जय-जय
*
(राकेश अचल की फेसबुक वॉल सेे)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here