ये लव का मामला है, इसमें कोई दंगा-फसाद नहीं…

इन दोनों विज्ञापनों से क्‍या आपको नहीं लगता कि कई मामलों में देश में कोई मतभेद नहीं है…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here