बर्तोल्‍त ब्रेख्‍त की यह कविता नहीं व्‍यवस्‍था पर नश्‍तर है

हम राज करें, तुम राम भजो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here