आज की कविता- फैशन है…

फैशन है 
******
हाँ जी,हाँ जी,हाँ जी,हाँ जी फैशन है
राजनीति में टल्लेबाजी फैशन है
*
कुर्सी राजधर्म है सबका समझो तो
वरना तो सबकी नाराजी फैशन है
*
भानुमती के कुनबे से रिश्ता सबका
मार रहे हैं खुल कर भांजी फैशन है
*
चूना लगा रहे हैं,मिलकर जनता को
बाबा,पंडित या मुल्ला जी फैशन है
*
मंजे जुआरी हैं अपने सब जनसेवक
जीतें चाहे हारें बाजी फैशन है
*
उंगली दबा रखी है कितने वर्षों से
साथ निभाना राजी-राजी फैशन है
*
तुर्रम खां हैं देशी सभी सियासत में
कोई सिकंदर,कोई गाजी,फैशन है
*
सुनो अचल जी दूध धुला अब कोई नहीं
उठा रखी सबने गंगा जी, फैशन है
*
(@ राकेश अचल की फेेसबुक वाॅॅल से साभार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here