अपने मध्यप्रदेश के निर्माण के लिये सर्वश्रेष्ठ योगदान दें – मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों का आव्हान किया कि वे आने वाली पीढ़ियों के सुनहरे भविष्य और मध्यप्रदेश निर्माण के लिये अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। उन्होंने कहा कि हर प्रदेशवासी के मन में यह भावना हो कि यह मेरा प्रदेश है और इसके लिये मैं अपने हिस्से का काम बेहतर तरीके से करूँगा। हम सब मिलकर टीम मध्यप्रदेश है जो मध्यप्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनायेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें इस बात पर गर्व है कि मध्यप्रदेश में इतना स्नेह और आत्मीयता मिलती है कि जो यहाँ आता है यहीं का होकर रह जाता है। मध्यप्रदेश में ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना में 10 प्रतिशत से अधिक तथा बारहवीं पंचवर्षीय योजना के पहले वर्ष करीब 12 प्रतिशत की विकास दर हासिल की है। इसका श्रेय अधिकारी कर्मचारियों को भी है। प्रदेश में तेजी से पूँजी निवेश हो रहा है। हाल ही में संपन्न ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 4 लाख 31 हजार करोड़ के एम.ओ.यू. हुए हैं, जिससे 27 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे। देश के उद्योगपतियों ने एक स्वर से यहाँ आने की इच्छा व्यक्त की है।

उन्होंने कहा कि मुझे लोग सपनों का सौदागार कहते हैं। इसे मैं स्वीकार करता हूँ और दैनिक पूजा में भी मध्यप्रदेश के सर्वांगीण विकास का सपना देखता हूँ। मैं मध्यप्रदेश के हर गाँव में सड़क, 24 घंटे बिजली, प्रत्येक युवक को रोजगार, सभी प्रदेशवासियों के अपने घर और झुग्गियों की जगह मकान के सपने देखता हूँ। इन सपनों को साकार करने के लिये प्रतिदिन 18 घंटे कार्य करने के लिये संकल्पबद्ध हूँ। मन में प्रदेश के विकास का जुनून, जज्बा और तड़प है। ऐसी ही अपेक्षा प्रदेश के कर्मचारियों से भी है। श्री चौहान के आव्हान से कर्मचारी जगत भी उत्सुक और प्रफुल्लित था। हर तरफ नारे लग रहे थे कि कर्मचारी आपके साथ हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here