अल्ट्रा-स्मॉल बैंक से खुले विकास के नये द्वार

भोपाल, जुलाई 2013/ प्रदेश के सुदूर गाँवों में बैंकिंग सुविधा की पहुँच नहीं होने से ग्रामवासियों को आसपास के कस्बों और शहरों तक 25 से 30 किलोमीटर दूर जाना पड़ता था। आज राज्य के ऐसे हजारों गाँव में अल्ट्रा-स्मॉल बैंक खुल जाने से यहाँ विकास के नये द्वार खुले हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया और भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने मध्यप्रदेश के इस सफल मॉडल की व्यापक सराहना की है।

सुदूरवर्ती गाँव में बैंकिंग सुविधा की उपलब्धता और वित्तीय समावेशन का लाभ पहुँचाने के लिये पिछले वर्ष मध्यप्रदेश में मॉडल ऑफ फायनेंशियल इन्क्लूजन तैयार किया गया। राज्य के 52 हजार गाँव में से 14 हजार 767 ऐसे गाँव को चुना गया, जहाँ 5 किलोमीटर के दायरे में कोई वित्तीय संस्थान की सुविधा नहीं है। इन गाँव तक वित्तीय समावेशन के माध्यम से बैंकिंग सुविधा मुहैया करवाने के लिये उन्हें जिले और बैंकवार वर्गीकृत किया गया। प्रत्येक बैंक ने अपने शेडो एरिया के ऐसे गाँव में अल्ट्रा-स्मॉल बैंक खोलने की नीति बनाई। अब विभिन्न बैंक के माध्यम से करीब 3500 ऐसे अल्ट्रा-स्मॉल बैंक खोलने का काम तेजी से चल रहा है। अब तक 1275 अल्ट्रा-स्मॉल बैंक खोले जा चुके हैं। अल्ट्रा-स्मॉल बैंक इसके लिये ग्राम-पंचायत भवन में एक कमरा दिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here