आधुनिक तकनीक से खेती को फायदेमंद बनायें-मुख्यमंत्री

भोपाल, फरवरी 2013/ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश के किसानों का आव्हान किया है कि आधुनिक तकनीकी के उपयोग से खेती को फायदेमंद बनायें। प्रदेश में कृषि में यंत्रीकरण को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। श्री चौहान यहां प्रगतिशील किसानों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। यह कार्यक्रम जान डियर्स कंपनी द्वारा आयोजित था। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि किसानों का देश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान है। किसान अन्न उत्पादन करता है जो कारखानों में नहीं बन सकता। प्रदेश में खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिये हर संभव प्रयास किये गये हैं। सिंचाई क्षमता सात लाख हैक्टेयर से बढ़ाकर 25 लाख हैक्टेयर की गयी है। खेतों तक पानी पहुंचाने के लिये नयी नहरों का निर्माण, पूर्व निर्मित नहरों की मरम्मत सहित नर्मदा क्षिप्रा लिंक जैसी परियोजनायें प्रारंभ की गयी हैं। गांवो में 24 घंटे बिजली देने की व्यवस्था की जा रही है। अब किसानों को वर्ष में केवल दो बार बिजली के बिल देने होगें। खेती में उत्पादन लगातार बढ़े इसके लिये फसलों का विविधीकरण और यंत्रीकरण आवश्यक है। मध्यप्रदेश में कृषि विकास दर 18.9 प्रतिशत रही है।

जान डियर्स के ग्लोबल चेयरमेन सेम.एलन ने कहा कि नई तकनीकी के साथ किसानों के प्रति प्रतिबद्धता बनी हुयी है। किसानों के कौशल विकास को प्राथमिकता दी जा रही है। जान डियर्स के प्रेसीडेंट मार्कवान ने कहा कि खेती में लागत कम करके किसान मुनाफा बढ़ा सकते हैं। इसके लिये उन्हें कार्य प्रणाली विकसित करना होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here