कला एवं संस्कृति संरक्षण के एकजुट प्रयास हों: लक्ष्‍मीकांत

खजुराहो, फरवरी 2013/ संस्कृति एवं जनसंपर्क मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने कहा है कि प्रदेश में भारतीय कला एवं संस्कृति के संरक्षण एवं संवर्धन के लिये राज्य सरकार द्वारा कोई कमी नहीं छोड़ी जायेगी। उन्होंने इसके लिये जन-सहयोग का भी आग्रह किया। श्री शर्मा खजुराहो में 39वें खजुराहो नृत्य उत्सव के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे।

संस्कृति मंत्री ने कहा कि खजुराहो नृत्य उत्सव की दुनियाभर में विशिष्ट पहचान है। इस पहचान को बनाये रखने के लिये संस्कृति विभाग लगातार प्रयास कर रहा है। खजुराहो के मंच पर अंतर्राष्ट्रीय-स्तर के कलाकारों को अपनी प्रस्तुति देने की इच्छा रहती है। इस उत्सव से प्रदेश में शास्त्रीय नृत्य के प्रति जन-सामान्य में एक विशेष जुड़ाव होता है। मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना की चर्चा करते हुए श्री शर्मा ने कहा कि इस अभिनव योजना से प्रदेशवासी अपनी प्राचीन परम्पराओं से जुड़ सकेंगे। प्राचीन नगरी उज्जैन में इस साल संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिये विश्व संस्कृत महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है।

श्री शर्मा ने मध्यप्रदेश राज्य रूपंकर कला प्रदर्शनी के 10 प्रतिभागी को सम्मानित कर पुरस्कार वितरित किये। इस अवसर पर केरल की प्रदर्शनकारी कलाओं की कला-यात्रा प्रदर्शनी ‘नेपथ्य’, ललित कलाओं के मेले पर आधारित प्रदर्शनी ‘आर्ट-मार्ट’ एवं मध्यप्रदेश राज्य रूपंकर कला प्रदर्शनी भी लगायी गयी।

प्रभारी मंत्री हरिशंकर खटीक ने कहा कि प्रदेश में विभिन्न कलाओं की प्रतिभा को बढ़ावा देने के लिये कई प्रयास किये जा रहे हैं। बुंदेलखण्ड की अपनी एक विशिष्ट पहचान है। इस अंचल की लोक-कलाओं के संरक्षण के लिये राज्य सरकार द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। उस्ताद अलाउद्दीन खाँ संगीत एवं कला अकादमी के निदेशक गणेश बागदरे ने स्वागत उद्बोधन दिया।

नृत्य समारोह के पहले दिन शर्मिष्ठा मुखर्जी एवं साथियों का कथक नृत्य, डोना गांगुली एवं रघुनाथ दास द्वारा ओडिसी नृत्य तथा उमा नम्बूदरीपाद सत्यनारायण द्वारा भरतनाट्यम की मनमोहक प्रस्तुतियाँ दी गईं। अतिथियों द्वारा इन कलाकारों को सम्मानित भी किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here