गुस्साई भीड़ ने गुलाबगंज रेलवे स्टेशन को आग लगाई

विदिशा, फरवरी 2013/ रेलवे बजट के ही दिन विदिशा जिले के गुलाबगंज रेलवे स्टेशन पर संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की चपेट में आने से दो बच्चों की मौत के बाद हुए उपद्रव में एक रेलवे कर्मचारी की मौत हो गई और घटना में झुलसा एक सहायक स्टेशन मास्टर मौत से जूझ रहा है। दो अन्य गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घटना से गुस्साए लोगों ने स्टेशन पर भारी तोड़फोड़ कर पैनल रूम को आग लगा दी।

भीड़ करीब तीन घंटे तक तोड़फोड़ करती रही बाद में स्थानीय पुलिस और आरपीएफ ने स्थिति पर काबू पाया। पैनल जल जाने के कारण भोपाल-बीना रेलखंड की सिग्नल प्रणाली ठप होने से सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक दिल्ली-मुंबई मार्ग पर रेल यातायात पूरी तरह से ठप हो गया। कड़ी मशक्कत के बाद करीब सवा बजे ट्रेनों का संचालन शुरु किया जा सका। इस बीच जो ट्रेन जिस स्टेशन पर चल रही थी वहां खड़ी हो गई। ऐसे हालत में भोपाल और हबीबगंज स्टेशन पर ट्रेनों का आवागमन बंद हो जाने से यात्रियों में अफरा तफरी मच गई।

गंभीर रूप से घायल एएसएम संकेत बंसल और तहसीलदार हरिशंकर विश्वकर्मा को विदिशा अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से श्री बंसल की हालत गंभीर होने पर उन्हें भोपाल रेफर किया गया। राजधानी के नेशनल हास्पिटल में उनका उपचार चल रहा है। डाक्टरों ने उनकी हालत गंभीर बताई है।

पटरी पार करते समय हुआ हादसा

मंगलवार सुबह करीब सवा नौ बजे गुलाबगंज रेलवे स्टेशन पर भोपाल के अशोका गार्डन निवासी अली (4) और अनम (12) पटरी पार करते समय संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की चपेट में आ गए। दोनों बच्चों की मौत के बाद सैकड़ों की संख्या में आ जुटे लोगों ने स्टेशन पर पथराव शुरू कर दिया, जिससे बचने के लिए एएसएम संकेत बंसल और स्टाफ पैनल रूम में बंद हो गए। उपद्रवियों ने पैनल रूम पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी, जिससे रेलवे के पीडब्ल्यूएस कर्मचारी भगवानदास की मौत हो गई और संकेत बंसल गंभीर रूप से झुलस गए। पैनल रूम में बंद लोगों को निकालने के प्रयास में गुलाबगंज तहसीलदार हरिशंकर विश्वकर्मा और एक अन्य चंद्रकांत मोंगिया भी झुलस गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here