जल खेती ने दिलाया मप्र को राष्ट्रीय सम्मान

सिवनी जिले की बरघाट तहसील के ग्राम बोरीखुर्द के एक प्रगतिशील किसान विलास तिजारे ने न केवल जल कृषि के मर्म को समझा, वरन अपनाया भी। किसान ने एकीकृत फसल प्रणाली के माध्यम से खुद की 30 एकड़ भूमि में जल कृषि मसलन सिंघाड़ा उत्पादन, मछली-पालन, पशु-पालन, उद्यानिकी फसलों एवं धान्य फसलों की पैदावार उन्नत तकनीक से प्राप्त कर भरपूर मुनाफा लिया। तिजारे को इन नवाचारों के लिये अच्छा प्रतिसाद भी प्राप्त हुआ। तिजारे की इस पहल को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने सराहा। उन्हें भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा जगजीवनराम अभिनव किसान पुरस्कार से नवाजा गया है। इसी माह केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री शरद पवार द्वारा कृषि भवन, नई दिल्ली में नवाचारों के लिये उन्हें पुरस्कार के रूप में 50 हजार नगद एवं 50 हजार रुपये तकनीकी विस्तार के रूप में दिये गये। साथ ही प्रशस्ति-पत्र से भी सम्मानित किया गया। आज वे जिले के अन्य किसानों के लिये प्रेरक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here