तहसील राजस्व अभिलेखागारों का आधुनिकीकरण होगा

भोपाल, फरवरी 2013/ प्रदेश की सभी 352 तहसील के राजस्व अभिलेखागारों को आधुनिक बनाया जायेगा। आधुनिकीकरण होने से राजस्व अभिलेखागार के महत्वपूर्ण रिकार्ड सुरक्षित रखने के साथ-साथ नागरिकों को उनकी प्रतिलिपि भी सरल तरीके से ऑनलाइन उपलब्ध हो सकेगी। यह कार्य वर्तमान में 13 जिलों में प्रारंभ किया जा चुका है। ये जिले हैं- श्योपुर, मुरैना, भिण्ड, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, भोपाल, सीहोर, होशंगाबाद, हरदा, जबलपुर, कटनी और सिवनी।

राजस्व एवं पुनर्वास मंत्री करण सिंह वर्मा ने बताया है कि आधुनिकीकरण कार्य के लिये प्रथम चरण में 27 जिलों का चयन किया गया है। इनमें से 13 जिलों में कार्य प्रारंभ हो चुका है। योजना के तहत पहले से निर्मित राजस्व अभिलेखागारों का जीर्णोद्धार कर अभिलेखों की हार्ड कॉपी के भण्डारण के लिये ‘स्टोरेज एरिया’, कम्प्यूटर और अन्य सह उपकरण स्थापित करने के लिये ‘ऑपरेशनल एरिया’ और लोगों को सेवाएँ प्रदान करने के लिये ‘सिटीजन सर्विसेज एरिया’ उपलब्ध करवाया जायेगा। इसके अलावा स्थायी स्वरूप के राजस्व अभिलेखों, राजस्व प्रकरणों की स्केनिंग, बारकोडिंग, इण्डेक्सिंग कर डीएमएस (डाक्यूमेंट मैनेजमेंट सिस्टम) द्वारा नागरिक सेवाएँ प्रदान की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here