दिल की मंद धड़कनों को मिली संजीवनी

भोपाल, दिसंबर 2012/ प्रदेश के बच्चों में हृदय की गंभीर बीमारी के इलाज के लिए राज्य सरकार की एक योजना संजीवनी बनी है। यह योजना है ‘‘मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार’’ योजना। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर उन्हें मिली भेंट, स्मृति-चिन्ह आदि की आनलाइन नीलामी की राशि से प्रारंभ हुई यह योजना प्रदेश के बाल हृदय रोगियों को नया जीवन देने में सफल हुई है।

हाल ही में ग्वालियर के 11 वर्षीय राहुल की हृदय की गंभीर बीमारी की वजह से मंद पड़ चुकी दिल की धड़कनों को सामान्य करने में यह योजना संजीवनी बनी। योजना के जरिये राहुल का इलाज दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में होगा।

उल्लेखनीय है कि राहुल का शारीरिक विकास सामान्य बच्चों की तरह नहीं हो रहा था। साथ ही थोड़ी सी दौड़-भाग करने पर वह थक जाता था। चिकित्सकीय से जाँच से पता चला कि उसे दिल की गंभीर बीमारी है। यह जानकर पूरा परिवार सदमे में आ गया। माली हालत ऐसी थी नहीं, जो दिल की बीमारी के इलाज का खर्च उठा सके। इसी दौरान राहुल के पिता रामसेवक को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना की जानकारी मिली। उन्होंने जाँच रिपोर्ट एवं उपचार खर्च का ब्यौरा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को प्रस्तुत किया।

आज की स्थिति में राहुल के इलाज के लिए एम्स के इस्टीमेट के अनुसार 40 हजार की राशि मंजूर हो गई है। उनके परिवार की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। सरकार की उदार सहायता का जिक्र करते हुए राहुल के पिता की आँखें भर आती हैं। वे भावुक होकर कहते हैं कि – ‘हमारे मुख्यमंत्री गरीबों के लिए हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here