दीन-दुखियों का उदय ही अन्त्योदय: शिवराज

भोपाल, फरवरी 2013/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि समाज के अन्तिम छोर पर खड़े व्यक्ति को योजनाओं और कल्याणकारी कार्यक्रमों का लाभ देना सरकार की पहली प्राथमिकता है। दीन-दुखियों का उदय ही अन्त्योदय है। इसी उद्देश्य को लेकर सरकार द्वारा अन्त्योदय मेले आयोजित किए जा रहे हैं। श्री चौहान रायसेन जिले के सिलवानी में अन्त्योदय मेले को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में स्‍थानीय सांसद श्रीमती सुषमा स्वराज, कृषक-कल्याण राज्य मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, गृह निर्माण मण्डल के अध्यक्ष रामपाल सिंह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अन्त्योदय मेले के माध्यम से सरकार स्वयं हितगा्रहियों के पास जाकर उन्हें विभिन्न योजनाओं का लाभ दे रही हैं। प्रदेश तेजी से विकास कर रहा है। प्रदेश की कृषि विकास दर देश में सर्वाधिक हैं। हम देश में सबसे ज्यादा खाद्यान्न उत्पादन वाले राज्यों की श्रेणी में हैं।

कृषि को लाभ का धन्धा बनाने की नीति का ही परिणाम है कि मध्यप्रदेश को केन्द्र सरकार द्वारा कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। प्रदेश में सिंचाई क्षमता का विस्तार किया जा रहा है। किसानों को पर्याप्त बिजली देने के लिए फीडर सेपरेशन का कार्य तेजी से चल रहा है। जल्द ही सरकार गाँवों को 24 घण्टे बिजली उपलब्ध करवाएगी। किसानों को अब हर माह बिजली का बिल नहीं देना होगा। उन्हें साल में दो बार ही बिल जमा करना होगा। उन्होंने कहा कि इस साल से सरकार किसानों से 1500 रूपए प्रति क्विंटल गेहूँ खरीदेगी।

मुख्यमंत्री ने नागरिकों एवं जन-प्रतिनिधियों की माँग पर सिलवानी के अधोसंरचाना विकास के लिए दो करोड़ तथा स्टेडियम निर्माण के लिए 45 लाख रूपए देने तथा महाविद्यालय में आगामी सत्र से विज्ञान एवं वाणिज्य संकाय प्रारंभ करवाने की घोषणा की। श्री चौहान ने 3 करोड़ 65 लाख रूपये के निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया।

श्रीमती सुषमा स्वराज ने कहा कि अन्त्योदय मेले में समाज के आखिरी व्यक्ति को योजनाओं और विकास का लाभ दिया जाता हैं। निवेश के लिए मध्यप्रदेश उद्योगपतियों की पसंद बनता जा रहा है। प्रदेश में तीव्रगति से विकास के कारण रोजगार के अवसर बढ़े हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here