निःशक्तजन पुनर्वास के लिए कृत-संकल्पित

ग्‍वालियर, जनवरी 2013/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश सरकार निःशक्तजन कल्याण एवं उनके पुनर्वास के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। वे मुरैना में लायन्स क्लब मयूरवन द्वारा आयोजित निःशक्तजन विवाह समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्‍होंने 35 जोड़ों को आशीर्वाद दिया। समारोह की अध्यक्षता सांसद एवं भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर ने की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रदेश का पहला विवाह सम्मेलन है, जिसमें 35 निःशक्तजन विवाह बँधन में बँध रहे हैं। निःशक्तजन विवाह प्रोत्साहन योजना में अगर पति-पत्नि में से कोई एक विकलांग है तो उसे 25 हजार और दोनों ही विकलांग है तो उन्हें 50 हजार रुपये की सहयोग राशि सरकार देगी। जिला प्रशासन निःशक्तजन को ढूँढ-ढूँढ कर उनके कल्याण के लिए काम करें। समारोह में शामिल उत्तर प्रदेश के चार निःशक्तजन को भी सहयोग राशि देने के निर्देश कलेक्टर को दिये। कहा कि इसमें किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने औद्योगिक विकास पर चर्चा करते हुए कहा कि वे मुरैना जिले में सीतापुर नाम से नया औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने की पूर्व में घोषणा कर चुके हैं। इसी के साथ मुरैना-ग्वालियर-शिवपुरी से निकली आगरा-मुम्बई हाई-वे के आसपास की सरकारी जमीन को इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर के रूप में विकसित कर उद्योग लगाने के द्वार खोले जा रहे हैं। साधारण व्यक्ति को भी ऋण देने की व्यवस्था की जा रही है। बेरोजगारों को रोजगार से जोड़ने का सरकार प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगभग 144 नये उद्योग स्थापित कर उनके द्वारा उत्पादन करना शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बुधवार को भोपाल में युवा पंचायत में की गई घोषणाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि 25 लाख रूपये तक के उद्योगों के लिए पाँच प्रतिशत ब्याज अनुदान सरकार देगी। बैंक ऋण की शत-प्रतिशत गारंटी सरकार देगी। इसके साथ ही 50 हजार रूपये तक के उद्योगों के लिए 20 प्रतिशत मार्जिन मनी सरकार देगी। कौशल विकास मिशन के जरिये 15 लाख युवा को कौशल विकास प्रशिक्षण की व्यवस्था सरकार करेगी।

सांसद श्री तोमर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश की तकदीर और तस्वीर को बदलने का काम किया है। 2003 तक मध्यप्रदेश की गिनती बीमारू राज्य में हुआ करती थी। उस समय इण्डस्ट्रीज, कृषि सहित अन्य कई विकास कार्य में हम पिछड़े थे। अब श्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश इण्डस्ट्रीज सहित कृषि क्षेत्र में अग्रणी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here