निजी क्षेत्र में सेवानिवृत्ति की आयु 60 वर्ष होगी

भोपाल, मई 2014/  निजी क्षेत्रों में सेवानिवृत्ति की आयु 58 से बढ़ाकर 60 वर्ष की जायेगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि मजदूरों के हितों को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाय। श्रम कानूनों को सरलीकृत कर निवेशक मित्र बनाया जाय। मजदूरों के पंजीयन का संख्यात्मक लक्ष्य निर्धारित करने के बजाय शत-प्रतिशत पंजीयन का लक्ष्य बनाया जाय।

श्री चौहान यहाँ श्रम विभाग की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में श्रम मंत्री अंतर सिंह आर्य, मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा मौजूद थे। बताया गया कि 100 दिवसीय कार्य-योजना में मध्यप्रदेश दुकान एवं स्थापना तथा श्रम कल्याण निधि के अंतर्गत सभी संस्थानों को ऑनलाइन आवेदन करने तथा इलेक्ट्रॉनिक फार्म संधारण की अनुमति दी गई है। लायसेंस जारी करने और नवीनीकरण को लोक सेवा अधिनियम के दायरे में लाया गया है। प्रदेश के सभी जिलों में श्रम कल्याण केन्द्र प्रारंभ किये गये हैं। ठेका श्रमिकों को चेक से भुगतान मिलने लगा है। निर्माण श्रमिकों के लिये ग्रामीण क्षेत्र में एक लाख 20 हजार और शहरी क्षेत्रों में साढ़े तीन से पाँच लाख रुपये लागत की आवासीय योजना प्रारंभ की गई है। वस्त्र और आई.टी. में महिलाओं को रात्रि पाली में कार्य करने की छूट देने की अधिसूचना जारी कर दी गई है।

मुख्यमंत्री द्वारा मजदूर महा-पंचायत में की गई घोषणा के अनुसार भोपाल शहर के पास कान्हासैया ग्राम में निर्माण श्रमिकों के बच्चों के लिये 100 करोड़ की लागत से अत्याधुनिक शिक्षा सुविधाओं से युक्त आवासीय एजुकेशन सिटी बनायी जायेगी। इसके लिये 36 एकड़ भूमि चिन्हित की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here