नैक की तरह प्रदेश में कॉलेजों का मूल्यांकन हो

भोपाल, दिसम्बर 2014/ नैक की तरह प्रदेश के सभी महाविद्यालय का मूल्यांकन एक माह में करवायें। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) में गठित राज्य उच्च शिक्षा परिषद की बैठक में कही। श्री गुप्ता ने कहा कि सभी महाविद्यालय की 31 दिसम्बर 2014 की स्थिति में जानकारी 31 जनवरी तक उपलब्ध करवायें। बैठक में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी भी उपस्थित थे।

श्री गुप्ता ने कहा कि विद्यार्थियों का महाविद्यालयों में रजिस्ट्रेशन प्रतिवर्ष 2 प्रतिशत बढ़ाने की सुनियोजित कार्य-योजना बनायें। कार्य-योजना में जो लक्ष्य निर्धारित करें, उसे समय-सीमा में पूरा भी करें। सन 2020 तक 30 प्रतिशत सकल पंजीयन अनुपात लाना है। अभी 20.4 प्रतिशत है। रूसा में 5000 सहायक प्राध्यापक की भर्ती के लिए सहायता दी जायेगी।

शासन द्वारा स्वशासी महाविद्यालय शहडोल तथा जबलपुर एवं इंदौर इंजीनियरिंग कॉलेज को विश्वविद्यालय के रूप में उन्नयन का प्रस्ताव बनाया गया है। सतना और देवास में क्लस्टर विश्वविद्यालय स्थापित होगा।

भोपाल सहित दस विश्वविद्यालय को अधोसंरचना विकास के लिए 200 करोड़ मिलेंगे। अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ा वर्ग बहुल क्षेत्र श्योपुर, टिमरनी, शाहपुरा, झाबुआ तथा बिरसिंहपुर पाली में मॉडल कॉलेज स्थापित किये जायेंगे। इसी तरह धामनोद, परासिया, आमला, मंडलेश्वर, बड़वानी, पेटलावद, देपालपुर तथा सिहोरा स्थित शासकीय महाविद्यालय को भी आदर्श महाविद्यालय बनाया जायेगा।

शोध एवं नवाचार के लिए भी विस्तृत प्रस्ताव तैयार किया गया है। ग्रामीण एवं आदिवासी क्षेत्र के 41 शासकीय महाविद्यालय, 11 विश्वविद्यालय तथा एक तकनीकी विश्वविद्यालय को शोध एवं नवाचार के लिए 5 करोड़ मिलेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here