नोटा बन गया खोटा

नई दिल्ली, मई 2014/ वर्तमान लोकसभा चुनाव में करीब 60 लाख मतदाताओं ने नोटा का इस्तेमाल किया तथा ऐसे वोटों की संख्या 21 दलों को मिले वोटों से भी अधिक है। नोटा को इस लोकसभा चुनाव में पहली बार शुरू किया गया था।

मताधिकार का इस्तेमाल करते हुए 59,97,054 मतदाताओं ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन पर नोटा का बटन दबाया। यह वोट 543 सीटों पर पड़े कुल मतों का करीब 1.1 प्रतिशत है। नोटा के तहत पड़ने वाले वोटों की संख्या इस बार चुनाव लड़ रहे जेडीयू, सीपीआई, जेडीएस और शिरोमणि अकाली दल सहित 21 दलों को मिलने वाले वोट से भी अधिक है।

इस चुनाव में नोटा इस्तेमाल करने वाले मतदाताओं का सबसे अधिक प्रतिशत पुडुचेरी में दर्ज किया गया। यहां पड़ने वाले 22,268 मतों में से तीन प्रतिशत नोटा में पड़े। इसके बाद मेघालय में 2.8 प्रतिशत (30,145), गुजरात 1.8 प्रतिशत (4,54,880), छत्तीसगढ़ 1.8 प्रतिशत (2,24,889), दादर नगर हवेली 1.8 प्रतिशत (2962) शामिल है।

नोटा इस्तेमाल करने वाले अन्य राज्यों में बिहार 1.6 प्रतिशत (5,81,011), ओडिशा 1.5 प्रतिशत (3,32,780), मिजोरम 1.5 प्रतिशत (6495), झारखंड 1.5 प्रतिशत (1,90,927), दमन एवं दीव 1.5 प्रतिशत (1316) है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here