पिटाई से बच्चे की मौत पर दो शिक्षक और बीईओ निलंबित

बैतूल, दिसंबर 2012/ बैतूल जिले के पाथाखेड़ा के एक स्कूल में बच्चे की बेरहमी से पिटाई करने वाले दोनों शिक्षक निलंबित कर दिए गए हैं। पुलिस ने उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद तत्काल कोई कार्रवाई न करने पर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ए.के. गुप्ता को भी निलंबित कर दिया गया है। पिटाई के कारण चौथी कक्षा के छात्र असलम की मौत हो गई थी। उसका बुधवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। पीड़ित परिवार को बुधवार रात दस हजार स्र्पए की सहायता देने की बात कही गई। इस बीच मामले की जांच का दौर शुरू हो गया है। स्कूल में सन्‍नाटा पसरा हुआ है और घटना को लेकर कोई भी मुंह खोलने को तैयार नहीं है।

शिक्षकों पर प्रकरण

आरोपी शिक्षकों विजयराम भगत और बिजू सुनारिया पर पाथाखेड़ा पुलिस चौकी में धारा 325, 34 और 304 (ए) के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

लीपापोती की कोशिश हुई थी

यह भी पता चला है कि घटना के बाद अफसरों ने मामले पर लीपापोती का प्रयास भी किया था और यह बताने की कोशिश हुई थी कि असलम को शिक्षकों की पिटाई के कारण नहीं बल्कि खेलते समय चोट आई है। यह स्कूल आदिम जाति कल्याण विभाग का है। पहले तो शिक्षा और आदिम जाति कल्याण दोनों विभाग सुस्त रहे बाद में जिला शिक्षा अधिकारी बीएल लोधी ने घोड़ाडोंगरी बीईओ को 1 दिसम्बर को जांच के निर्देश दिए थे। बीईओ ने पाथाखेड़ा पहुंच कर बच्चों व शिक्षकों से बयान लिए और अपनी रिपोर्ट डीईओ को सौंप दी। यहां से रिपोर्ट आजाक के सहायक आयुक्त को भेज दी गई। लेकिन न तो कोई कार्रवाई हुई न ही असलम के परिवार को इलाज के लिए कोई मदद मिल सकी।

चार अफसर पहुंचे

अब घटना की कई स्तरों पर जांच कराई जा रही है। बुधवार को कलेक्टर द्वारा डीपीसी, एसी ट्रायबल एवं 2 अन्य अधिकारियों को जांच के लिए मौके पर भिजवाया गया है। इसके अलावा भोपाल से भी गुस्र्वार को 3 अलग-अलग टीमें जांच के लिए पाथाखेड़ा पहुंचने वाली हैं।

स्कूल में छाया सन्‍नाटा

पाथाखेड़ा के प्रेमनगर स्थित प्राथमिक शाला में कक्षा चौथी के छात्र असलम के हाथ से स्कूल के मैदान पर खेल खेल में बाल्टी टूट गई थी, बस इसी बात पर उसे इतना पीटा गया कि आखिरकार उसकी जान चली गई। घटना के बाद स्कूल में सन्‍नाटा छाया हुआ है। बच्चों की उपस्थिति उसी दिन से कम हो गई थी और असलम की मौत के बाद तो गिने चुने बच्चे ही आ रहे हैं। घटना से बच्चे और बाकी शिक्षक भी सहमे हुए हैं और लगातार हो रही पूछताछ के बाद वे अब बिल्कुल भी मुंह नहीं खोल रहे।

 

वे बोले…

मारपीट करने वाले दोनों शिक्षकों को निलंबित कर उनके खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज किया गया है। फिलहाल बच्चे के परिजनों को 10 हजार रुपए राहत राशि दी गई है और भी राहत दिलाने के प्रयास दिए जा रहे हैं।

– अरुण तिवारी, संभागायुक्त, नर्मदापुरम्

 

मामले की जांच संभागीय संयुक्त संचालक (लोक शिक्षण) भोपाल को सौंपी है। रिपोर्ट आने पर ही कुछ बता पाएंगे।

रश्मि अरुण शमी, सचिव, स्कूल शिक्षा विभाग

 

वह स्कूल आदिम जाति कल्याण विभाग का है। मामले की जांच के लिए दल गठित कर दिया है। गुरुवार को मैं भी जाऊंगा।

पीआर तिवारी, संभागीय संयुक्त संचालक (लोक शिक्षण) भोपाल

 

मेरे पास अभी इस मामले की रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने के बाद ही वास्तविक स्थिति का पता चल पाएगा और नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

बी चंद्रशेखर, कलेक्टर, बैतूल

 

मैंने बीईओ को जांच के आदेश दिए थे। रिपोर्ट सहायक आयुक्त को सौंप दी गई थी। शिक्षकों पर कार्रवाई का अधिकार उन्हीं को है।

बीएल लोधी, जिला शिक्षा अधिकारी, बैतूल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here