प्रदेश का चौथा एमपी एक्सपोर्टेक शुरू

ग्‍वालियर, जनवरी 2013/ ग्वालियर-चंबल संभाग सहित पूरे प्रदेश के उत्पादों को विश्व बाजार मुहैया करवाने के लिए प्रदेश की चौथी एमपी एक्सपोर्टेक (रिवर्स बायर्स सेलर मीट) ग्वालियर में शुरू हुई। चिकित्सा शिक्षा मंत्री अनूप मिश्रा ने मीट का उद्घाटन किया। श्री मिश्रा ने दुनिया भर से आए आयातकों का आह्वान किया कि वे मध्यप्रदेश के उत्कृष्ट उत्पादों को बेझिझक खरीदे। प्रदेश सरकार आयातकों और प्रदेश के उत्पादकों को हर तरह की सुविधाएँ देगी।

उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता राज्य लघु उद्योग विकास निगम के अध्यक्ष अखण्ड प्रताप सिंह ने की। इस मौके पर महापौर श्रीमती समीक्षा गुप्ता, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयसिंह कुशवाह, मेला अध्यक्ष श्री अनुराग बंसल उपस्थित थे।

एक्सपोर्टेक फेसिलिटेशन सेंटर में इस तीन दिवसीय रिवर्स बायर सेलर मीट में लगभग 16 देशों के राजदूत, उच्चायुक्त सहित अन्य राजनयिक एवं उनके सलाहकार आए हैं। इस प्रकार विभिन्न देशों के दो दर्जन से अधिक राजनयिकों सहित कुल 107 खरीदार ग्वालियर पहुँचे हैं। मीट में प्रदेश के 110 विक्रेताओं ने अपने उत्पादों की प्रदर्शनी लगाईं है।

श्री अखण्ड प्रताप सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उत्पादों की बड़ी श्रंखला है। इन उत्पादों को विश्व बाजार मुहैया करवाने के लिये हो रही एमपी एक्सपोर्टेक के सकारात्मक परिणाम भी सामने आए हैं। सीआईआई मध्यप्रदेश के अध्यक्ष श्री आर एस गोस्वामी ने भी विचार व्यक्त किए। अपर मुख्य सचिव उद्योग पी के दाश ने प्रदेश के औद्योगिक, सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक परिवेश पर प्रकाश डाला। उद्योग आयुक्त टी. धर्माराव ने आभार व्यक्त किया।

मीट में दुनिया भर से आये आयातक जहाँ प्रदेश के उत्पादों की खरीददारी करेंगे वहीं विभिन्न देशों के राजदूत एवं वरिष्ठ उच्चायुक्त अपने सलाहकारों के साथ इन उत्पादों की प्रदर्शनी देखेंगे। प्रदर्शनियों में खासकर स्टोन, फार्मा, आयुर्वेदिक व हर्बल प्रोडक्ट, खाद्य प्र-संस्करण, हेण्डलूम, हेण्डी क्राफ्ट्स एवं इंजीनियरिंग उत्पाद सजाए गए हैं।

मीट में 19 नवम्बर को आयातक और प्रदेश के विक्रेताओं की वन-टू-वन मीट होगी। विदेशी खरीददार और प्रदेश के विक्रेता उत्पादों के बारे में चर्चा और निर्यात के करार भी करेंगे।

एमपी एक्सर्पोटेक में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, बुलगारिया, बुरकिना फासो, कम्बोडिया, इजिप्ट, घाना, ग्वाटेमाला, गुयाना, मलेशिया, मारिशस, नामीबिया, नेपाल, साउथ अफ्रीका, साउथ कोरिया, सीरिया, तंजानिया, ट्रिनिडाड एवं टोबेगो, टर्की, युगांडा, यूएसए एवं वियतनाम आदि के खरीदार आये हैं।

राजदूत एवं उच्चायुक्त भी आए हैं

मीट में 15 देश के उच्चायुक्त तथा अन्य प्रतिनिधि पहुँचे हैं। इन देशों में यमन, युगांडा, अलजीरिया, ट्रिनिडाड, नाइजर, गेबोन, बोसनिया, हर्जेगोविना, इथियोपिया, माली, बेनिन, कोटरा एवं नामीबिया शामिल हैं। इसी प्रकार स्टेट आफ इरिट्री, टोगो, यमन, अलजीरिया और युगांडा के अधिकारी तथा गेबोन, उजबेकिस्तान, नीदरलेंड, अफगानिस्तान, अलजीरिया, बोसनिया एंड हरजेगोविना, बुरकिना फासो, गेबोन, गुयाना, निगर, स्टेट आफ इरिट्रीआ, दि रिपब्लिक आफ उजबेकिस्तान, ट्रिनिडाड एवं टोबेगो, यमन, युगांडा, इथोपिया, टोगो एवं नामीबिया के आर्थिक एवं व्यापारिक सलाहकार शामिल हैं।

मुख्यमंत्री बताईं प्रदेश की खूबियाँ

इस अवसर पर विभिन्न देशों से आये राजदूतों, प्रतिनिधियों एवं खरीदारों को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का संदेश वितरित किया गया। संदेश में श्री चौहान ने प्रदेश की कला, संस्कृति एवं ऐतिहासिक विरासत का उल्लेख किया। उन्होंने बताया कि राज्य में खनिज, वनोपज एवं तिलहन आदि का प्रचुर मात्रा में उत्पादन और उच्च गुणवत्ता वाली वस्तुओं का निर्माण होता है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि मीट से प्रदेश के उत्पादों के और अधिक क्रय-विक्रय का मार्ग प्रशस्त होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here