बेहतर कानून-व्यवस्था से सकारात्मक वातावरण बना

भोपाल, दिसम्बर 2014/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेहतर कानून-व्यवस्था से विकास का सकारात्मक वातावरण बनता है। मध्यप्रदेश बेहतर कानून-व्यवस्था से निवेश के लिये देश में सबसे पसंदीदा राज्य बना है। मुख्यमंत्री यहाँ नवीन पुलिस मुख्यालय भवन के लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे। समारोह में गृह मंत्री बाबूलाल गौर भी उपस्थित थे।

श्री चौहान ने कहा कि उपलब्ध संसाधनों और संख्या बल का बेहतर उपयोग किया जाये। मध्यप्रदेश पुलिस का देश में विशिष्ट स्थान है। मध्यप्रदेश पुलिस ने डकैतों का उन्मूलन, नक्सलवाद का नियंत्रण और सिमी के नेटवर्क को ध्वस्त करने की उपलब्धि हासिल की है। आज आतंकवाद जैसी चुनौती बनी हुई है जो मानवता के लिये खतरा है। देश और समाज के सामने आ रहे खतरों के प्रति सजग रहकर लगातार बेहतर कानून-व्यवस्था बनाये रखने की कोशिश करना होगी। पुलिस मानवीय गुणों से परिपूर्ण रहे ताकि आम लोगों को लगे कि वे उनके साथ हैं। दुष्टों के प्रति पुलिस का रवैया कठोर रहे। उन्होंने कहा कि लगातार आत्म-विश्लेषण करें और बेहतर सेवाएँ दे। राज्य सरकार ने पुलिसकर्मियों को बेहतर आवास और स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध करवाने की योजना लागू की है। नवीन पुलिस मुख्यालय भवन के सामने के मार्ग का सौन्दर्यीकरण किया जाये।

गृह मंत्री बाबूलाल गौर ने कहा कि नवीन पुलिस मुख्यालय के सर्वसुविधायुक्त भवन से लोगों की बेहतर सेवा और कार्य किया जाये। इसके चारों ओर के मार्ग का सौन्दर्यीकरण किया जाये। पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष एस.एस.लाल ने कार्पोरेशन की गतिविधियों की जानकारी दी। पुलिस महानिदेशक सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि नव-निर्मित पुलिस मुख्यालय भवन की कुल लागत करीब 46 करोड़ रूपये है।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश पुलिस का इतिहास संदर्भ का विमोचन किया। साथ ही कार्पोरेट-सोशल रेस्पांसिबिलिटी के तहत पुलिस हाउसिंग कार्पोंरेशन द्वारा पुलिसकर्मियों के लिये उपलब्ध करवाये गये करीब 25 लाख की लागत के स्वास्थ उपकरणों के दस्तावेज सौंपे। कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी, विधायक सुरेन्द्रनाथ सिंह, प्रमुख सचिव गृह बी.पी. सिंह, पुलिस हाउसिंग कार्पोंरेशन के प्रबंध संचालक संजय राणा सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे। आभार प्रदर्शन अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (योजना) पवन जैन ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here