युवा पीढ़ी के लिए नैतिक शिक्षा जरूरी: राज्‍यपाल

भोपाल, दिसंबर 2012/ राज्यपाल राम नरेश यादव ने यहाँ सर्च एवं रिसर्च ग्रुप के यूथ कॉनक्लेव में कहा कि भारत को महाशक्ति बनाने के लिए देश के हर युवा को राष्ट्रीय चरित्र, नैतिकता, भारतीय संस्कृति एवं जीवन मूल्यों पर आधारित आदर्श शिक्षा देनी होगी। युवा चेतना को सतत जाग्रत रखते हुए उसे राष्ट्रीय चेतना का रूप देने की आवश्यकता है। देश की विशाल युवा आबादी को एक कुशल मानव संसाधन के रूप में विकसित कर एक स्वाभिमानी, सुखी, समृद्ध और सशक्त राष्ट्र के निर्माण में भागीदार बनाना होगा। दो दिन का यह कानक्लेव डेवलपमेंट एण्ड प्रॉस्पेरिटी ऑफ नेशन थ्रू यंग माइंडस’ विषय पर केन्द्रित था। कानक्लेव का उद्घाटन पूर्व राष्ट्रपति श्री ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने किया था।

राज्यपाल ने कहा कि देश की युवा पीढ़ी आधुनिक टेक्नालॉजी गाँव तक पहुँचायें ताकि शहरों और गाँव के बीच आय के बड़े अंतर को दूर किया जा सके। दो दिन के दौरान विकास के विभिन्न मुद्दों पर युवाओं के मंथन के निष्कर्ष भविष्य का इतिहास लिखेंगे। युवा प्रतिभा के पलायन पर रोक लगाने की आवश्यकता है।

राज्यपाल ने तीन वर्गों में सम्पन्न स्पर्धाओं के विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया। पेपर प्रेजेंटेशन वर्ग में सृष्टि मलिक, आकांक्षा तिवारी, अखिलेश तिवारी, इमाद खान, आकांक्षा दुबे, किशन सिंह, स्तुति मिश्रा और उमर खान को पुरस्कृत किया गया। इसी प्रकार मॉडल्स और पोस्टर वर्ग में शुभम मिश्रा, मुकुल कुमार, अमनदीप गुप्ता, रौनक वर्मा, याजुन्श त्यागी, आराध्या सिंह, शर्मिष्ठा यादव, किशन सिंह, वैशाली, नेहा श्रीवास्तव, गोविंद और लतीफ शेख को पुरस्कृत किया गया।

विशिष्ट अतिथि मेनिट के डायरेक्टर अप्पु कुट्टन के.के. ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी पर पढ़ाई के साथ-साथ सामाजिक अपेक्षाओं का बहुत ज्यादा बोझ है। युवा पीढ़ी का कौशल और ज्ञान ही सबसे महत्वपूर्ण है। ज्ञानवान व्यक्ति ही नागरिकों की समस्याओं की पहचान कर उसका समाधान निकाल सकता है। छात्रों के लिए एकाग्रता, आध्यात्मिक एवं मानसिक शांति जरूरी है। पूर्व में ग्रुप के सचिव और पत्रकार अनिल सिरवैया ने स्वागत भाषण दिया। अतिथियों का स्वागत ग्रुप अध्यक्ष श्रीमती मोनिका जैन ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here