राजा महाराजाओं के चक्‍कर में न पड़े जनता: शिवराज

मुरैना, सितंबर 2013/ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मुरैना जिले में कई स्‍थानों पर जनआशीर्वाद यात्रा को सम्बोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश मेरा परिवार है मैं इसका सेवक हूं, राजा नहीं। जनता के सुख और दुख से मेरा गहरा नाता है। भाजपा ने विकास और सुशासन का मंत्र दिया है। हमारी कथनी करनी में कोई अंतर नहीं है। 

कई स्‍थानों पर मुख्‍यमंत्री का ‘चंबल घाटी करे पुकार, फिर भाजपा, फिर शिवराज‘  के नारे के साथ स्‍वागत किया गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता राजा और महाराजाओं के चक्कर में नहीं आए। लोकतंत्र में मुख्‍यमंत्री जनता का सेवक होता है। कांग्रेस के राज में राजा और महाराजा मुख्यमंत्री हुआ करते थे। आज किसान का बेटा मुख्यमंत्री बना है तो यह कांग्रेसियों को रास नहीं आ रहा है। सभी कांग्रेसी मिलकर भाजपा को बदनाम करने की साजिश रच रहे हैं।

भाजपा टिकट अक्टूबर तक

मुख्यमंत्री ने मुरैना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश में विधानसभा चुनाव विकास और जनकल्याण के मुद्दे पर होंगे। कांग्रेस शिवराज फोबिया से ग्रस्त है और उन्हें सही राह भी नहीं दिखाई दे रही है। कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमान सौंपकर प्रदेश के आदिवासी समुदाय के साथ विश्‍वासघात किया है। पिछड़े वर्गो के साथ विश्‍वासघात करने और उनका चुनाव में भावनात्मक शोषण करना कांग्रेस की परंपरा रही है। पार्टी अध्यक्ष नरेन्द्रसिंह तोमर ने कहा कि विधानसभा चुनाव में जनता ही कांग्रेस का सामना करेगी, क्योंकि उसने दिग्विजय सिंह सरकार के दस वर्ष में कांग्रेस की निष्क्रियता और विकास के प्रति उदासीनता को भुगता है। भाजपा टिकट वितरण का काम सितंबर अंतिम सप्ताह से अक्टूबर प्रथम सप्ताह में पूर्ण कर लिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here