विकास चाहिए तो भ्रष्टाचार पर रोक जरूरी

भोपाल, नवंबर 2012/ प्रदेश में विकास को गति देने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ई.ओ.डब्ल्यू., लोकायुक्त, सी.टी.ई. जैसी संस्थाओं को मजबूत बनाया है। आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो उसे सौंपे गए दायित्व को पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी से पूर्ण कर रहा है। सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री कन्हैयालाल अग्रवाल यहाँ ब्यूरो के स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।

श्री अग्रवाल ने कहा कि ब्यूरो को सशक्त बनाने के लिये स्टॉफ में बढ़ोत्तरी के साथ ही सरकार ने संस्था का स्वयं का कार्यालय भवन भोपाल में बनवाया है। संस्था के कार्य को सुगम बनाने सागर एवं उज्जैन में भी कार्यालय खोलना प्रस्तावित है। मुख्यमंत्री की पहल पर भ्रष्टाचारियों पर त्वरित कार्रवाई करने प्रदेश में विशेष न्यायालयों का गठन किया गया है। ई.ओ.डब्ल्यू. ने दो प्रकरण में विशेष न्यायालय के माध्यम से भ्रष्टाचार में जप्त 8 करोड़ की सम्पत्ति राजसात करवाकर सराहनीय कार्य किया है।

ई.ओ.डब्ल्यू. महानिदेशक, रमेश शर्मा ने बतलाया कि स्थापना दिवस के अवसर पर दो दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें विशेषज्ञों के अलावा ई.ओ.डब्ल्यू. के पूर्व महानिदेशकों के अनुभव भी साझा किए गए। अच्छा कार्य करने वाली इकाई को इस वर्ष से रनिंग शील्ड प्रदान करने की कार्रवाई पुनः प्रारंभ की जा रही है। पूर्व महानिदेशक के.एस. ढिल्लन ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा ई.ओ.डब्ल्यू. को आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित करना सराहनीय कदम है।

राज्य मंत्री ने प्रकरणों के निराकरण में उल्लेखनीय उपलब्धि दर्ज करवाने वाली ई.ओ.डब्ल्यू. की भोपाल इकाई को बेस्ट यूनिट की रनिंग शील्ड पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला को प्रदान की। उन्होंने इस वर्ष अप्रैल से अक्टूबर, 2012 तक श्रेष्ठ कार्य करने वाले संस्था के छः अधिकारियों को डी.जी.सी.आर. अवार्ड से सम्मानित करने के साथ ही सेमिनार में शामिल होने वाले प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र प्रदान किए। अवार्ड प्राप्त करने वाले अधिकारियों में सर्वश्री मनोज कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक ई.ओ.डब्ल्यू. इंदौर, अमित सिंह, उप पुलिस अधीक्षक भोपाल, विनोद कुमार दीक्षित, निरीक्षक इंदौर, अरविंद कुमार तिवारी, निरीक्षक रीवा, अवनीत शर्मा, निरीक्षक ग्वालियर और जगदीश प्रसाद वर्मा, निरीक्षक जबलपुर शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here