समाज में साहित्यकारों की महत्वपूर्ण भूमिका

भोपाल, जून 2013/ राज्यपाल राम नरेश यादव ने यहाँ भारत भवन में बुंदेलखंड साहित्य एवं संस्कृति परिषद भोपाल के बुंदेली समारोह -13 को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी समाज और वर्ग के सम्पूर्ण विकास के लिए सरकार के साथ-साथ साहित्यकारों, समाज सेवी और विद्वानों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। श्री यादव ने कहा कि भौगोलिक और सांस्कृतिक विविधताओं के बावजूद बुंदेलखंड अपनी एकता और समरसता के कारण देश के परिदृश्य पर अपनी विशिष्ट पहचान बना सका है। ऐसे ही समन्वित प्रयासों से बुंदेली भाषा को सम्मानजनक स्थान मिल सकेगा।

कार्यक्रम में केन्द्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि साहित्यकार हमारे देश के प्रतीक हैं। साहित्यकार पूरे देश को एक विचार देता है और एक सोच निर्मित करता है जिससे राष्ट्र प्रगति करता है। कार्यक्रम को सांसद श्री सत्यव्रत चतुर्वेदी और कृषि मंत्री श्री रामकृष्ण कुसमारिया ने भी सम्बोधित किया।

परिषद द्वारा श्री मुरारी लाल खरे को उनकी रचना बुंदेली रामायण के लिए ‘‘छत्रसाल सम्मान‘‘ से अलंकृत किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here