सम्पर्क सेतु योजना को अंतर्राष्ट्रीय एमबिलियन्थ पुरस्कार

भोपाल, अगस्त 2014/ प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रवीर कृष्ण ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त एमिबिलियन्थ पुरस्कार मंजिल नहीं एक पड़ाव है। पुरस्कार प्राप्ति पर सभी अधिकारी कर्मचारी बधाई के पात्र हैं। नागरिकों की अच्छी सेहत सुनिश्चित करने के लिए सूचना तंत्र को मजबूत बनाते हुए प्रदेश में 77 हजार कॉमन यूजर ग्रुप सिम स्वास्थ्य कार्यकताओं को दी गई है। प्रमुख सचिव ने यह बधाई फेस बुक के माध्यम से टीम हेल्थ के सभी सदस्यों को भेजी है। उन्होंने प्रत्येक स्तर पर और बेहतर कार्य किए जाने की अपेक्षा भी की है।

सोशल मीडिया के सशक्त माध्यम फेस बुक पर भी ‘टीम हेल्थ ‘ नामक ग्रुप बनाया गया है जिसमें 12 हजार सदस्य हैं। टीम हेल्थ के नाम से फेस बुक पर सिर्फ डेढ़ वर्ष के छोटे से समय में जन-जन का पेज बन गया। इस पेज पर ग्राम और जिला स्तर से अनेक रोगियों की गंभीर समस्याओं को भी उजागर किया जाता है। वरिष्ठ अधिकारी तत्काल रोगी के आवश्यक उपचार के लिए मार्गदर्शन भी देते हैं। जिला और संभाग स्तर पर आपरेशन आदि की सुविधा न होने पर मेडिकल कॉलेज या अन्य बड़े चिकित्सालयों में रेफर किए जाने और उसके उपचार में सहयोग भी करते हैं। प्रमुख सचिव प्रतिदिन स्वयं पेज के एडमिन होने के नाते प्रत्येक पोस्ट पर निगाह रखते हैं।

प्रमुख सचिव ने कहा है कि यह अवार्ड स्वास्थ्य विभाग के परिश्रमी अधिकारियों-कर्मचारियों का सही मूल्यांकन है। उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही सोशल मीडिया के सार्थक प्रयोग के लिए प्रतिष्ठित एमबिलियन्थ अवार्ड हासिल किया है। डिजिटल एम्पॉवरमेंट फाउंडेशन ने प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की संपर्क सेतु योजना को एमबिलियन्थ पुरस्कार के लिए चुना। यह पुरस्कार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन संचालक फैज अहमद किदवई ने हाल ही में नई दिल्ली में हुए समारोह में प्राप्त किया।

सामाजिक बदलाव एवं विकास के क्षेत्र में मोबाइल फोन के बेहतर और नवाचारी उपयोग के लिये डिजिटल एम्पॉवरमेंट फाउंडेशन ने दक्षिणी एशिया के आठ देश भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान, अफगानिस्तान तथा मालद्वीप में प्रविष्टियाँ आमंत्रित की थी। इसके आधार पर मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की संपर्क सेतु योजना को श्रेष्ठ पाया गया। इस योजना को विशेष चेयरमेन श्रेणी पुरस्कार से भी नवाजा गया। फाउंडेशन को 8 देश से 300 प्रविष्टियाँ प्राप्त हुई थीं, जिसमें प्रदेश को एम-हेल्थ श्रेणी में चयनित किया गया।

जन-स्वास्थ्य सुविधाओं को प्रदेश के दूर-दराज तक पहुँचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने दिसंबर 2012 में संपर्क सेतु योजना शुरू की थी। योजना के माध्यम से राज्य, संभाग, जिला, विकासखंड एवं ग्राम आरोग्य केंद्र स्तर तक पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी आपस में संपर्क करते हैं। इस योजना में विभाग के मैदानी अमले को 77 हजार सीयूजी (कॉमन यूजर ग्रुप) सिम उपलब्ध करवाई गई। इससे आशा कार्यकर्त्ता से लेकर संपूर्ण विभागीय अमला सीधे जुड़ गया। इस तकनीक के जरिए विभाग के मैदानी कार्यकर्ता स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक सूचनाएँ संबंधित को एसएमएस के माध्यम से अवगत करवाते हैं। परिणामस्वरूप जरूरतमंद क्षेत्रों एवं व्यक्ति को स्वास्थ्य संबंधी मदद तत्काल प्राप्त होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here