स्थापना दिवस उत्सव: ए.आर. रहमान के गीत-संगीत से सजी भोपाल की शाम

मध्यप्रदेश के 57वें स्थापना दिवस पर आज लाल परेड मैदान पर आयोजित भव्य समारोह में प्रसिद्ध गायक, संगीतकार और ऑस्कर अवार्ड विजेता श्री ए.आर. रहमान ने गीत-संगीत के विभिन्न कार्यक्रमों की प्रस्तुति की। उनके अनेक प्रसिद्ध गीतों के साक्षी बने भोपाल सहित समीप के जिलों से आए एक लाख से अधिक लोग। समारोह में कृष्णायन और श्री रहमान की प्रस्तुति को लाल परेड मैदान के बाहर भी मार्ग पर बड़ी संख्या में मौजूद लोगों ने स्क्रीन के माध्यम से देखा।

विशाल और भव्य मंच पर आकर्षक प्रकाश और साउंड व्यवस्था के बीच कृष्णायन नृत्य नाटिका के बाद हाईड्रोलिक मशीन से जैसे ही श्री रहमान मंच पर अवतरित हुए, दर्शकों ने करतल ध्वनि से उनका स्वागत किया। श्री रहमान के निर्देशन में सोलह फुट ऊँचे मंच और स्क्रीन पर प्रदर्शित उनके कार्यक्रमों को लोगों की भरपूर वाह-वाही मिली। प्रसिद्ध गायक श्री सुखविंदर और सुश्री श्वेता पंडित सहित लगभग 200 कलाकारों के साथ कार्यक्रम प्रस्तुत करने आये श्री रहमान ने मंच पर आकर सर्वप्रथम मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का अभिवादन किया। इसके बाद उन्होंने अपने गीतों और संगीत से स्थापना दिवस की संध्या को यादगार बना दिया। ताल, रॉकस्टार, बाम्बे, दिल से आदि फिल्मों के गीतों ने श्रोताओं का भरपूर मनोरंजन किया।

कृष्णायन

इसके पूर्व श्रीकृष्ण की विभिन्न लीलाओं पर आधारित नृत्य-नाटिका कृष्णायन की आकर्षक और प्रभावी प्रस्तुति की गई। चार सौ कलाकारों के साथ श्रीकृष्ण के विभिन्न रूपों को दर्शकों ने सराहा और प्रशंसा की। सुश्री मैत्रेयी पहाड़ी के निर्देशन और श्री राहुल रस्तोगी की परिकल्पना पर आधारित कृष्णायन में कृष्ण लीला का प्रत्येक दृश्य न सिर्फ आकर्षक बल्कि मंत्रमुग्ध कर देने वाला था। इसमें पद्मभूषण सुश्री तीजनबाई का गायन भी सम्मिलित था।

कृष्णायन की रोचक प्रस्तुति में कृष्ण-जन्म, यशोदा द्वारा लालन-पालन, मित्रों-गोपियों संग अठखेलियाँ, कालिया मर्दन और गोवर्धन पर्वत को उठा लेने की लीला, कंस-वध, ब्रज की होली, कौरव-पाण्डव युद्ध में अर्जुन के सारथी के रूप में श्रीकृष्ण आदि अनेक प्रसंगों के नाट्य रूपांतरण की मन-मोहक प्रस्तुति ने स्थापना दिवस समारोह के वातावरण को अपने रंगों से सरोबार कर दिया।

श्रीकृष्ण की विभिन्न लीलाओं के बीच भजनों की प्रस्तुति और नृत्य-नाटिका को मिली दर्शकों की वाह-वाही से स्थापना दिवस समारोह को निरंतर भव्यता मिलती रही। मीरा और राधा के साथ श्रीकृष्ण की लीलाएँ दर्शकों को प्रभावित किए बगैर नहीं रह सकी। कार्यक्रम के अंत में प्रसिद्ध मोरानी ब्रदर्स द्वारा रंगारंग आतिशबाजी का प्रदर्शन किया गया।

स्थापना दिवस के भव्य समारोह में युवाओं ने हिस्सा लिया। युवाओं के अलावा जन-प्रतिनिधि, समाजसेवी, अधिकारी-कर्मचारी, मीडियाकर्मी आदि बड़ी संख्या में मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here