स्‍थापना दिवस की मुख्‍य थीम होगी “स्वच्छ मध्यप्रदेश”

भोपाल, अक्टूबर 2014/ मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा ने आगामी एक नवम्बर को राज्य स्थापना दिवस एवं माह भर होने वाले कार्यक्रमों की तैयारियों की समीक्षा की। मुख्य सचिव ने बैठक में मध्यप्रदेश दिवस समारोह के अंतर्गत मंत्रालय के नजदीक और लाल परेड ग्राउंड में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम की रूपरेखा पर चर्चा की। मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि एक से 30 नवम्बर तक विभिन्न कार्यक्रम के साथ ही एक से सात नवम्बर तक ‘स्वच्छ मध्यप्रदेश” की थीम पर प्रभावशाली कार्यक्रम किए जाएँ।

बैठक में बताया गया कि एक नवम्बर को पूर्वान्ह 10.25 से लगभग एक घंटे अवधि के कार्यक्रम के साथ ही वल्लभ भवन के विस्तार भवन के शिलान्यास का कार्यक्रम भी होगा। इस कार्यक्रम में राष्ट्र गान, अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा प्रदेश के विकास के लिए कार्य करने का संकल्प, मध्यप्रदेश गान और वंदे-मातरम् आदि के साथ ही मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान का संबोधन होगा। इस अवसर पर मंत्रालय सहित सतपुड़ा एवं विन्ध्याचल भवन के अधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित रहेंगे।

श्री डिसा ने लाल परेड ग्राउंड एवं मध्यप्रदेश दिवस समारोह के अंतर्गत एक से सात नवम्बर के मध्य हो रहे मुख्य आयोजनों और एक सप्ताह के समापन पर होने वाले समारोह पर विचार-विमर्श किया। एक नवम्बर के मंत्रालय परिसर के आयोजन का जिम्मा सामान्य प्रशासन विभाग, इस शाम लाल परेड ग्राउंड पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम का जिम्मा संस्कृति विभाग और एक सप्ताह के मुख्य आयोजन के राजधानी में होने वाले समापन कार्यक्रम का जिम्मा नगरीय विकास एवं पर्यावरण विभाग का रहेगा। जिला-स्तरीय आयोजनों के संबंध में राज्य सरकार ने समस्त कलेक्टर्स और कमिश्नर्स को पूर्व में ही आवश्यक निर्देश भेज दिये हैं। बैठक में प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन श्री के. सुरेश, प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं पर्यावरण श्री एस.एन.मिश्रा, संचालक संस्कृति श्रीमती रेनू तिवारी और अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

राज्य सरकार ने राजधानी सहित सभी जिलों में मध्‍यप्रदेश दिवस समारोह और एक से सात नवम्बर की अवधि में होने वाले कार्यक्रम की मुख्य थीम स्वच्छ मध्यप्रदेश के साथ ही 11 सूत्री विषय पर केन्द्रित किए हैं। इनमें महिला सशक्तिकरण, बेटी बचाओ अभियान, कृषि उत्पादकता वृद्धि, युवाओं का तकनीकी कौशल विकास, नशा मुक्ति अभियान, स्कूल चलें हम अभियान, हरित मध्यप्रदेश, सुशासन, पर्यावरण, स्वस्थ प्रदेश और कुपोषण शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here