Posted inबॉलीवुड, हेडलाइन

अलविदा चौकसे जी…आप फिल्मों के इनसाइक्लोपीडिया थे

राजेश ज्‍वेल 2 जून 1988 को शोमैन राज कपूर ने एक माह के जीवन-मौत से संघर्ष बाद आधी रात को अंतिम सांस ली थी। तब मैं दैनिक भास्कर में उप संपादक बतौर पहले पेज का रात्रिकालीन इंचार्ज हुआ करता था। टेलीप्रिंटर पर जैसे ही राज कपूर के निधन की खबर फ्लैश हुई, मैंने तुरंत अपने […]