छत टपकती थी अगरचे फिर भी आ जाती थी नींद
मैं नए घर में बहुत रोया, पुराने के लिए