वक़्त होठों से मेरे वो भी खुरच कर ले गया
इक तबस्सुम जो था दुनिया को दिखाने के लिए