मशाल का बेटा धुआँ,
गर्व से गगन में गया,
शून्य में खोया
कोई नहीं रोया।
मशाल की बेटी आग
यहीं धरती पर रही,
चूल्हे में आई
नसों में समाई।