सप्‍ताह की शुरुआत मुस्‍कुराहट से कीजिये… 

▪ इतिहास गवाह है कि कपड़े धोते वक्त पति की जेब से मिले पैसे बीवियों ने आज तक वापस नहीं किए।

▪ इतिहास गवाह है कि गुटखा खाते वक्त किसी से बातचीत करते हुए जब-जब भी आदमी ने गुटखा बीच में ही थूका है तब-तब उसने बहुत ज्ञान की बात बताई है।

▪ इतिहास गवाह है कि प्राइवेट जॉब से छुट्टी लेकर आदमी का ब्याह-शादी में पहुंचना उतना ही मुश्किल रहा है जितना कि पुरानी फिल्मों में गवाह का कोर्ट में पहुंचना।

▪ इतिहास गवाह है कि हर गांव में एक दो बुड्ढे ऐसे होते हैं जिनसे भूत ने कभी बीड़ी मांगी होती है।

▪ इतिहास गवाह है कि सब्जी खरीदने के बाद जो भी पैसे बच जाते हैं, वही बेरोजगारों की आय का मुख्य स्त्रोत है।

▪ इतिहास गवाह है कि अलार्म बजने से परिवार के सारे लोग उठ जाते हैं सिवाय उसके, जिसने अलार्म लगाया हो।

▪ इतिहास गवाह है कि महिलाओं ने मोलभाव करते समय दुकानदार को हमेशा पिछली दुकान का हवाला दिया है।

▪ इतिहास गवाह है कि अगर कोई पटरी पर ये देखने गया है कि ट्रेन आ रही है या नहीं, तो वह बिना थूके वापस नहीं आया है।

▪ इतिहास गवाह है कि लड़कियों को अपनी मंजिल पर पहुंचने से कोई नहीं रोक पाया है, सिवाय रास्ते में खड़े गोलगप्पे वाले के।

▪ इतिहास गवाह है कि रोटी के बाद सबसे ज्यादा खाई जाने वाली चीज ‘कसम’ है, ‘गुटखा’ अभी भी तीसरे नंबर पर है।

▪ इतिहास गवाह है कि शादी के बाद लड़के का हमेशा पहला फर्ज रहा है, टेंट वाले के सारे बर्तन पूरे करना।

▪ इतिहास गवाह है कि संस्कृत दसवीं कक्षा के बाद सीधी ‘फेरों’ पर ही सुनने को मिली है।

▪ इतिहास गवाह है कि आम खाने के बाद इंसान ने गुठली पर उतना ही आम छोड़ा है जितनी ट्यूब में टूथपेस्ट।

▪ इतिहास गवाह है कि भारत में शुरू से ही अच्छे बॉलर नहीं रहे क्योंकि बैटिंग करने के बाद साला हमेशा से ही घर भागने की परंपरा रही है।

▪ इतिहास गवाह है कि होटल में रुका हुआ आदमी कमरे के परदे और तौलिए से जूते पोंछे बगैर वहां से नहीं गया है।

▪ इतिहास गवाह है कि ‘पढ़ाई’ और ‘जिम’ कल से शुरू होते हैं तथा ‘सिगरेट’ और ‘दारू’ कल से बंद होते हैं।

ये विभिन्न लोगों के गहन अनुभवों पर आधारित तथ्य हैं।
(सोशल मीडिया से साभार)