राकेश अचल

आपकी गर्दन पर शिकंजा लगातार कसता जा रहा है। अब पूरे भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों का इस्तेमाल करने वाले लगभग सभी वाहन धारकों को फास्टैग लगाकर ही सफर करना पडेगा। फास्टैग लगाकर वाहन स्वामियों को जितना लाभ होगा सो होगा लेकिन अब सरकारी खजाना तेजी से भरेगा। सरकार इससे पहले वाहनों के ईंधन और रसोई गैस के दाम बढ़ाकर आम आदमी के ऊपर अतिरिक्त बोझ डाल ही चुकी है।

देशवासियों को फास्टैग सरकार की ओर से बसंत पंचमी का उपहार है। अब देश के करीब 600 टोलप्लाजा पर आप बिना फास्टैग के नहीं निकल पाएंगे। बिना फास्टैग राष्ट्रीय राजमार्ग पर सफर करने वालों को दोगुना कर अदा करने के साथ ही थर्ड पार्टी बीमा का लाभ भी नहीं मिलेगा सो अलग। अब राजमार्गों के आसपास बसने वालों को भी टोलटैक्स अदा करना पडेगा, केवल सेना और माननीय विधायकगण ही मुफ्त में टोलप्लाजा पार कर सकेंगे, लेकिन उनके वाहनों पर भी शून्य राशि के फास्टैग लगाए जायेंगे।

मैंने दुनिया के अनेक देशों में फास्टैग का इस्तेमाल देखा है। अमेरिका और चीन जैसे बड़े देशों में ही नहीं बल्कि यूएई जैसे छोटे से देश तक में फास्टैग का इस्तेमाल ससम्मान हो रहा है, लेकिन भारत की तरह यहां फास्टैग को लेकर कोई भ्रान्ति नहीं है। भारत की स्थितियां दूसरे देशों से भिन्न हैं, यहां राष्ट्रीय राजमार्ग के आसपास आज भी अनेक बसाहटें हैं इसलिए उनके लिए फास्टैग का इस्तेमाल असंगत सा लगता है।

भारत सरकार ने फास्टैग को लागू करने का श्रीगणेश हालांकि 9 साल पहले कर दिया था, लेकिन अनेक राजनीतिक विवशताओं के चलते पूरे देश में इसे एक साथ लागू नहीं किया जा सका था। अब पिछले 7 साल में देश में जन प्रतिरोध की क्षमता लगभग समाप्त कर दी गई है इसलिए अब इसे सख्ती के साथ पूरे देश में लागू किया जा रहा है। 15 फरवरी रात 12 बजे से पूरे देश में सभी गाड़ियों पर फास्टैग अनिवार्य हो गया है। चाहे आप शहर में ही घूमते हों या आने-जाने के लिए हाइवे का इस्तेमाल करते हों, तब भी आपको अपनी गाड़ी पर फास्टैग लगाना जरूरी होगा। अब से आपने अपनी गाड़ी बिना फास्टैग के टोल प्लाजा पर लगाई तो आपसे दोगुना टोल वसूली की जाएगी।

टोल-नाकों से गुजरने वाली सभी गाड़ियों पर फास्टैग अनिवार्य होने के बाद इन टोल प्लाजा पर फास्टैग के जरिए कैशलेस भुगतान किया जाएगा। इससे टोल प्लाजा पर गाड़ियों की लंबी कतारें नहीं लगेंगी, साथ ही जाम से भी छुटकारा मिलेगा। सरकार टोल प्लाजा पर अभी तक मिलने वाली डैडीकेटेड कैश लेन की सुविधा खत्म कर देगी और सभी लेन से फास्टैग के जरिए ही वाहन बिना रुकावट निकल सकेंगे।

वहीं अगर आप हाइवे के आसपास के गांवों या किसी ऐसे शहर में रहते हैं जहां टोल प्लाजा से हो कर गुजरना पड़ता है तब भी आपके लिए गाड़ी पर फास्टैग लगाना जरूरी होगा। अभी तक ऐसी जगहों पर रहने वाले आधार कार्ड दिखा कर टोल प्लाजा पार पार लिया करते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं पाएगा। एनएचएआई की गाइडलाइन में स्थानीय वाहन स्वामियों को किसी प्रकार की छूट का प्रावधान नहीं है।

नियमों का उल्लंघन करने पर ऐसे वाहन चालकों से दोगुना टोल टैक्स वसूला जाएगा। सरकार ने क्षेत्र के विधायकों के लिए एवं सांसद की दो गाड़ियों के लिए जीरो बैलेंस वाला फास्टैग एनएचएआई की तरफ से जारी किया गया। वहीं जीरो बैलेंस वाला फास्टैग बनवाने के लिए सरकारी विभागों को एनएचएआई की वेबसाइट पर आवेदन करना होगा।

15 तारीख के बाद किसी भी हंगामे से निपटने के लिए सरकार ने टोल नाकों पर अतिरिक्त पुलिस और मार्शल्स की व्यवस्था की है। बेहतर होता कि सरकार माननीय विधायकों और सांसदों को ये छूट न देती, ये दोनों बिरादरियां तो सबसे ज्यादा कमाने वाली जमाते हैं। ये रियायत केवल सेना के वाहनों को दी जाना चाहिए।

एक पुराने आंकड़े के मुताबिक देश में अब तक प्रतिदिन टोल टैक्‍स से 92 करोड़ रुपये की आय होती थी जो फास्टैग लगने के बाद दो गुना से ज्यादा हो सकती है। अभी देश में 75  फीसदी टोल टैक्‍स फास्टैग के जरिये ही वसूल किया जाता था। इसमें कोई संदेह नहीं है कि फास्टैग लागू होने से जहाँ देश में सरकार की आमदनी बढ़ेगी वहीं सड़कों की दशा सुधारने के लिए भी अतिरिक्त राशि हासिल की जा सकेगी। भ्र्ष्टाचार पर अंकुश लगेगा सो अलग।

आपको बता दें कि फास्टैग वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है और इसमें रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) लगा होता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आ जाती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन में लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही, आपके फास्टैक अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है और आप बिना वहां रुके अपने प्लाजा टैक्स का भुगतान कर देते हैं।

वाहन में लगा ये टैग, आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना कार्य शुरू कर देगा। वहीं जब आपके फास्टैग अकांउट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा। फास्टैग की वैधता 5 वर्ष तक की होगी यानि पांच वर्ष के बाद आपको नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना होगा।

फास्टैग के इस्तेमाल से आप ईंधन, समय बचाने के साथ ही कैशबैक का लाभ भी ले सकते हैं इसलिए जाइये और आज ही अपने वाहन पर फास्टैग चस्पा करा लीजिये। अब आपके खर्च में ये एक नया खर्च शामिल होने जा रहा है। इसका स्वागत तो आपको मन मारकर करना ही पडेगा। वक्त के साथ जो चलना है, अच्छी सड़कों पर।