मोहिनी एकादशी पर्व पर लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

सिंहस्थ महाकुंभ के सातवें स्नान पर्व में मोहिनी एकादशी पर्व वैशाख शुक्ल 11 मंगलवार देश-विदेश से आये लाखों श्रद्धालुओं ने माँ क्षिप्रा के विभिन्न घाट पर आस्था की डुबकी लगायी।

स्नान पर्व के अवसर पर अर्द्धरात्रि से ही बड़ी संख्या में घाटों में श्रद्धालुओं का ताँता लगा हुआ था। सुबह से ही त्रिवेणी घाट, गऊघाट, रामघाट एवं दत्त अखाड़ा घाट में लोग बारी-बारी से श्रद्धा की डुबकी लगाकर स्नान पर्व का पुण्य प्राप्त कर रहे थे। एकादशी के स्नान पर्व पर क्षिप्रा नदी पर बने नव-निर्मित आठ किलोमीटर के घाट श्रद्धालुओं से पटे नजर आ रहे थे। आस्था का यह दृश्य अत्यंत मनोरम था। मोक्ष प्राप्ति के लिये हर कोई क्षिप्रा के स्वच्छ, निर्मल जल में डुबकी लगाकर प्रार्थना कर रहे थे।

पर्व स्नान को देखते हुए प्रशासन द्वारा घाटों पर चुस्त-दुरुस्त व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की गयी थीं। जगह-जगह पर पुलिस एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के लोग श्रद्धालुओं को मार्गदर्शन दे रहे थे। यातायात को व्यवस्थित रखने के लिये बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात था। आवश्यकतानुसार भीड़ बढ़ने पर मार्ग भी परिवर्तित किये जा रहे थे। इसके साथ ही यात्रियों की सुरक्षा, जेबकतरों की सघन चौकसी तथा घाटों पर स्नान के दौरान डूबने की घटना से बचाव के लिये तैराक दल गश्त कर रहे थे। खोया-पाया केन्द्र के माध्यम से बिछड़े परिवारों को मिलाने का काम भी प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा सेवा भाव से किया जा रहा था। घाटों में विशेष साफ-सफाई, आकस्मिक घटनाओं से बचाव के लिये राष्ट्रीय एवं राज्य आपदा प्रबंधन संस्थान तथा विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के तैराक दल पूरी सतर्कता बरत रहे थे। घाटों में पहुँचने के लिये यातायात व्यवस्था को सुगम बनाया गया था। पुलिस अधिकारी सदभाव का परिचय देते हुए तीर्थ-यात्रियों का मार्गदर्शन कर रहे थे।

अगला स्नान पर्व 19 मई को

सिंहस्थ का तीसरा शाही स्नान 21 मई को

सिंहस्थ में मोक्षदायिनी क्षिप्रा में स्नान करने के लिये शाही एवं पर्व स्नान की तिथियाँ तय हैं। सिंहस्थ में दो शाही स्नान हो चुके हैं। अगले दो पर्व स्नान गुरुवार 19 मई को, शुक्रवार 20 मई को तथा शनिवार 21 मई को तीसरा शाही/प्रमुख स्नान होगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here