भोपाल। मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय और मध्य प्रदेश कौंसिल ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के बीच करार पर हस्ताक्षर मानसरोवर के सभागार में संपन्न हुआ। कार्यक्रम का शुभारम्भ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अरुण पांडेय के स्वागत भाषण से हुआ। डॉ. पांडेय ने मानसरोवर संस्थाओं की स्थापना और उद्देश्यों की चर्चा करते हुए दोनों संस्थानों के मध्य करार की उपयोगिता पर प्रकाश डाला।

एमपीसीसटी क़ी ओर से महानिदेशक डॉ. अनिल कोठारी ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये। डॉ. कोठारी ने अपने उद्बोधन में इस करार को ऐतिहासिक कदम बताया और एमपीसीसटी में उपलब्ध प्रयोगशालाओं   और उपकरणों को शोधकर्ताओं को इस्तेमाल करने क़ी सलाह दी। उन्होंने शिक्षकों को रिसर्च प्रोजेक्ट बनाकर एमपीसीएसटी के संयुक्त तत्वावधान में शोध करने का आवाहन किया।

एमपीसीसटी के सीनियर प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. प्रवीण दिघर्रा ने संस्थान में चल रहे विज्ञान सम्बन्धी विभिन्न कार्यकलापों क़ी चर्चा क़ी। मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर इं. गौरव तिवारी ने दोनों संस्थानों में हुए करार को सराहनीय कदम बताते हुए सभी उपस्थित विद्वजनों को बधाई दी।  इस अवसर पर मानसरोवर ग्रुप ऑफ़ इंस्टीटूशन्स के प्रिंसिपल, प्राध्यापक और विद्यार्थी बड़ी संख्या मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन कृषि संकाय की साक्षी भारद्वाज ने किया।